GST

जाने जवाब GST से जुड़े सवालों के बारे में।

भारतीय संसद के सेंट्रल हॉल में दिन शुक्रवार को रात 12 बजे हमारे पीएम मोदी जी और प्रणब मुखर्जी ने एक बटन दबाकर GST को पूरे भारत देश में लांच किया। अभी हमारे देश की बहुत सी ऐसी जनसंख्या हैं जिन्हें GST को लेकर अभी भी कुछ भर्म है। हम आपको GST से जुड़े सभी सवालों के जवाब देने जा रहे हैं। आइए जानते हैं GST के बारे में।

GST

सबसे पहले जाने क्या हुआ सस्ता और क्या  महंगा?

देश में GST लागू होने से ही आइटम सस्ते हो जाएंगे रेवेन्यू और पोस्ट स्टाम्प सस्ती हो जाएंगी। इन पर सिर्फ पांच प्रतिशत टैक्स देना होगा।

लगभग 80% ऐसे आइटम्स हैं जो 18 प्रतिशत से भी कम के स्लैब  में शामिल होंगे। इसमें आने वाले आइटम है वेल्डिंग वायर्स, ट्रांसफॉर्मर, स्टाटिंग कनवर्टर मशीन,  ट्रांसफॉर्मर इंडस्ट्रियल इलेक्ट्रॉनिक्स, पैरामिलिट्री फोर्स और डिफेंस पुलिस  द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले टू वे रेडियो आदि सामान सस्ते हो जाएंगे।

कैचअप, कटलरी, अचार और सौसज आदि भी सस्ते हो जाएंगे। इन आइटम को 12 प्रतिशत स्लेब ने रखा गया है।

यह चीजें हो जाएंगी महंगी

1 जुलाई से जब भी आप किसी AC रेस्टोरेंट में जाएंगे तो आप 18 प्रतिशत टैक्स देने के लिए तैयार हैं। पर यदि आप ऐसी रेस्टोरेंट में  ना जाकर नॉन AC रेस्टोरेंट में जाते हैं तो आप छह प्रतिशत टैक्स की बचत करेंगे। दरअसल नॉन AC रेस्टुरेंट में पहले 12 प्रतिशत टैक्स होता था पर GST के बाद यह  अब 6 प्रतिशत ही रह गया है।

बैंकिंग और टेलीकॉम जैसी सेवाएं महँगी हो जाएंगी। GST लागू होने के बाद मोबाइल बिल्स, ट्यूशंस  फीस, रेडीमेड  गारमेंट और फ्लैट पर टैक्स बढ़ जाएगा।

सैलून, ट्यूशन फीस और मोबाइल बिल पर पहले आपको सिर्फ 15% टैक्स ही देना पड़ता था, पर GST लागू होने के बाद अब आपको इन पर 18 प्रतिशत देना होगा।

यदि आप कोई भी चीज जो कि 1000 से अधिक की खरीद रहे हैं तो आपको उस पर 12 प्रतिशत टैक्स भरना पड़ेगा। अब तक हजार से ऊपर की चीज़ पर 6 प्रतिशत टैक्स ही लगता था।

GST लागू होने के बाद फ्लैट या दुकान खरीदने के लिए आपको 12 प्रतिशत टैक्स देना होगा। फिलहाल अभी यह टैक्स 6 प्रतिशत ही है।

किसके ऊपर कितना टैक्स लगेगा।

इन आइटम को है GST दायरे से बाहर रखा गया है। यह आइटम हैं फिश चिकन, अंडा, बटर मिल्क, दूध, शहद , दही, पिज़्ज़ा ब्रेड, फल और सब्जियां, प्रशाद, सिंदूर, बिंदी, नमक, फ्रूट जूस, नमकीन, छाता, सिलाई मशीन, अगरबत्ती, हैंडलूम और प्रिंटेड बुक जैसी है जो हम रोजमरा की जिंदगी में इस्तेमाल करते हैं, उन्हें GST से दूर रखा गया है।

इस पर लगेगा सिर्फ 5% का टैक्स देना होगा।

ब्रांडेड पनीर, पिज़्ज़ा ब्रेड, साबूदाना, केरोसिन, फ्रोजेन सब्जियां, चाय, मसाले, कॉफी, क्रीम, रिकॉर्डर, दवाई, लाइव बोर्ड,  जैसे आइटम्स पर आपको सिर्फ पांच ही टैक्स देना होगा।

ऐसे जरूरी चीजों पर 12 प्रतिशत का टैक्स लगेगा।

बटर, पैक्ड ड्राई फ्रूट्स, जूस, नमकीन, भुजिया, एनिमल्स मीट, अगरबत्ती, कलर बुक्स, पिक्चर बुक्स , आइसक्रीम, सैंडविच, कैमरा, मॉनिटर, आदि पर 18 परिषद का टैक्स देना होग।

इन आइटम्स पर लगेगा 28 प्रतिशत का टैक्स।

गुड़, कोकोआ, चॉकलेट, पान, मसाला, पेंट, च्युइंगगम, शेविंग क्रीम, हेयर शैंपू, वॉलपेपर, सनस्क्रीन, टाइल्स, सिलाई मशीन, वॉटर हीटर, डिशवॉशर, सिलाई मशीन, वॉशिंग मशीन, एटीएम, वेक्यूम क्लीनर, मोटरसाइकल, ऑटोमोबाइल आदि चीजों को लग्जरी माना गया है और इन लग्जरी चीजों पर 28 प्रतिशत टैक्स लगाने का फैसला हुआ है।

जानिए GST के बाद कारोबार ऊपर क्या असर होगा।

जो कारोबारी साल में 20 लाख रुपए से कम कार्टन ओवर रखते हैं उन्हें छूट दी गई है। जबकि GST लागू होने से पहले यह छूट सिर्फ 10 लाख तक के टर्नओवर वाले कारोबारी के लिए ही थी।

7500000 से अधिक टावर वाले मअनुफैटूर्स, रेस्टुरेंट कंपोजीशन और ट्रेडर्स के तहत 2, 5 ,1 प्रतिशत की अदा कर सकते है।

अब से सभी कारोबारियों महीने में 3 रिटर्न भरना पड़ेगा। जिसमें से दो रिटर्न ऑटोमेटिक होंगे।

GST लागू होने के बाद 1 जुलाई से हर वह माल जो मार्केट में आएगा उस पर जीएसटी टैक्स लगेगा।

हमारी सरकार ने 1 जुलाई से पहले वाले सारे स्टॉक की बिक्री पर सभी कारोबारियों को कंपनसेशन दी है।

kisan credit card scheme

 किसान क्रेडिट कार्ड योजना की जानकारी  ( Kisan Credit Card Scheme ki jaankari )

किसानों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड  योजना ( kisan credit card scheme ) शुरू हुई है जो कि उनके लिए बहुत बड़ी जरूरत बन सकती है। अगर यह क्रेडिट कार्ड उनके पास आ जाता है तो वह आसानी से कोई भी कर्जा ले सकते हैं। इसलिए यह योजना उनके लिए बहुत ही अच्छी है। इस क्रेडिट कार्ड की मदद से उन्हें खेती के लिए आसानी से खर्चा मिल जाएगा जिससे वह लोग समय से पहले ही किसान खेती के लिए उपकरण बीज और जो भी उस से संबंधित चीजे हैं वह खरीद सकते हैं।

Kisan Credit Card क्या हैं किसान क्रेडिट कार्ड ? ( Kya hai kisan credit card )

यह किसान क्रेडिट कार्ड एक तरह से उनके लिए उनके लिए पहचान पत्र है। अगर यह क्रेडिट कार्ड उनके पास आ जाता है तो वह आसानी से खेती के लिए कर्जा ले सकते हैं। और अपनी कृषि से संबंधित गतिविधियों को आसानी सुचारु रुप से चला सकते हैं। इस क्रेडिट कार्ड के अंदर उनका नाम, जमीन की जानकारी, पता, सुधार की अवधि, वैलिडिटी पीरियड और किसान का पासपोर्ट साइज फोटो इकट्ठा किया जाएगा।

किसान क्रेडिट कार्ड का इतिहास ( Kisan Credit Card ka itihas )

किसान क्रेडिट कार्ड आज से नहीं बल्कि 1998-99 में वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने आरंभ किया था। उन्होंने कहा था कि किसान क्रेडिट कार्ड योजना के चलते बैंक किसानों को एक तरह से गोद लेगी जिससे किसान हमारे भारत देश को बेहतरीन बीज खाद और कीटनाशक खरीद के अच्छी फसल दे सके। इसलिए नाबार्ड प्रमुख बैंको के साथ विचार विमर्श किया गया और उसके बाद एक आदर्श प्रेस किसान क्रेडिट कार्ड योजना आरंभ की गई और यह स्कीम रिजर्व बैंक के साथ आरंभ की गई थी।

किसान क्रेडिट कार्ड के फायदे  ( Kisan Credit Card ke fayde )

किसान क्रेडिट कार्ड  का फायदा उठाने के लिए ज्यादा पढ़ाई लिखाई की जरूरत नहीं है और इसे कम पढ़े लिखे लोग भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस योजना के चलते किसान को हर साल लोन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसलिए यह  योजना किसानों का समय और तनाव दोनों से बचाएगी। इसमें किसान को ब्याज क्रेडिट कार्ड पर मिल जाता है इसलिए किसान बिना किसी मुश्किल के अपने खेत के लिए बीज, खाद और भी अन्य जरूरत की चीजें खरीद कर एक अच्छी फसल तैयार कर सकता है। अगर कर लिया है तो उसको चुकाना भी पड़ेगा। परंतु इसके लिए किसान को चिंता करने की जरूरत नहीं है जब उन की फसल बिक जाए उसके बाद ही वह इस कर्ज को अदा कर सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए योग्यता ( Kisan Credit Card ke liye yogyta )

किसान क्रेडिट कार्ड उन्हीं किसानों को मिलता है जिनके पास खुद के खेत होते हैं या फिर किसी के खेती में वह काम करते हैं या फिर उनके पास फसल उत्पादन के लिए बहुत सारे खेत होते हैं। इस लोन को एक किसान भी ले सकता है और समूह किसान भी ले सकता है। परंतु जरूरी बात यह है कि इस क्रेडिट कार्ड को हासिल करने के लिए किसान को बैंक के ऑपरेशन एरिया में सम्मिलित होना जरूरी है।

अब आपको बताते हैं कि किसान क्रेडिट कार्ड में किन-किन चीजों के लिए कर्ज ले सकता है। वह अपनी खेती के लिए, फसल की कटाई के लिए, अगर उसने पशु पालन किया है तो उनके लिए भी ले सकता है। कृषि संबंधित कई तरह की गतिविधियां होती हैं उनके लिए भी वह लोन ले सकता है। घर की आवश्यकताओं के लिए भी वह लोन ले सकता है। इन सब चीजों के लिए बैंक किसान क्रेडिट कार्ड पर लघु कर्ज देती है।

किसान क्रेडिट कार्ड तकनीकी सुविधा : ( kisan credit card takniki suvidha )

पर्याप्त सिंचाई की सुविधाओं,मिट्टी, जलवायु की उपयुक्तता,भण्डार की सुविधा,उत्पादन की उपयुक्ता, चित्राशी हमें कितनी मिलेगी यह सबसे महत्वपूर्ण सवाल है। कर्ज की राशि किस तरह से आपकी कृषि हो रही है, आप किस तरह की जमीन पर कृषि कर रहे हैं, इससे पहले आपको कितना कृषि उत्पादन मिला है। इन सब को देखते हुए मिलेगी।

किसान क्रेडिट कार्ड के अंतर्गत लोन सुविधा  ( Kisan Credit Card eantargat loan ki suvidha )

पहले साल किसान के क्रेडिट कार्ड पर शॉर्ट-टर्म क्रेडिट कार्ड लिमिट फिक्स कर दी गई है। उसके अनुसार फसलों की खेती और उससे उत्पन्न होने वाली फसल पर यह सब निर्भर करता है। अगर यह सब बेहतरीन तरीके से रहा तो अगले साल हर एक साल के एक से पांच में लोन 10% बढ़ा दिया जाता है और जो लिमिट शॉर्ट टर्म के लिए दी गई थी उसे हर पांचवें साल पर 150% बढ़ा दिया जाता है।
इस तरह की बहुत सारी प्रक्रिया किसानों के क्रेडिट कार्ड में जोड़ी और घटाई जाती है। इसलिए आजकल किसानों के लिए यह क्रेडिट कार्ड बहुत ही जरूरी है क्योंकि प्राकृतिक आपदा की वजह से किसानों की फसलों का बहुत नुकसान होता है। जिसकी वजह से उनकी पूरी मेहनत पर पानी फिर जाता है। इसलिए यह क्रेडिट कार्ड उन की तकलीफ़ों को कम करने के लिए शुरु किया गया है।

sukanya samriddhi yojana

 बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ सुकन्या समृद्धि योजना  ( Beti padhao, beti bachao sukanya samriddhi yojana )

जैसा कि हम सब जानते हैं कि आजकल के जमाने में लड़कियों की संख्या कम होती जा रही है। क्योंकि लड़कियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है। बस इसी महिलाओं के स्वास्थ्य सुविधा के लिए सरकार द्वारा कई योजना बनाई जा रही है। लड़कियों को शिक्षित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा समृद्धि योजना ( sukanya samriddhi yojana ) की शुरुआत की गई है। और भी अन्य जरूरतों के लिए सरकार के द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रहे हैं। सुकन्या समृद्धि यह जो योजना है बेटियों की पढ़ाई और उनके शादी के खर्चे के लिए बनाई गई है। जिससे की बेटियों के मां बाप उनकी शादी का खर्चा आसानी से उठा सके।

यह योजना के अंतर्गत सभी बेटियों की पढ़ाई और उनकी शादी के लिए डाक विभाग के पास सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट खुलवाया जा सकता है। डाक विभाग के किसी भी पोस्ट ऑफिस में आप यह अकाउंट खुलवा सकते हैं। सुविधा केंद्र में भी अकाउंट खुलवा सकते हैं। आप डॉक्यूमेंट जमा करने के बाद ही इस अकाउंट को खुलवा पाएंगे।

sukanya samriddhi yojana

जानिए क्या है सुकन्या समृद्धि योजना (  janiye kya hai sukanya samriddhi yojana )

आप अपनी बेटी का सुकन्या समृद्धि योजना जब भी खुलवाने जाएं। उसमें बेटी के नाम से साल में 1000 से लेकर 1,50000 रुपए जमा कर सकते हैं।

यह पैसा आपको 14 साल तक हर साल जमा करवाना होगा। यह खाता बेटी का जब 21 साल पूरे हो जाएंगे तभी आप इसे मैच्योर करवा सकते हैं। और यह पैसा आप 18 साल में भी निकलवा सकते हैं पर यह पैसा उस समय पूरा नहीं निकलेगा बल्कि आधा ही निकलेगा।

सुकन्या समृद्धि योजना के अनुसार यह सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के लिए बहुत लाभदायक योजना है। परंतु अगर आपके बेटी की शादी 18 वर्ष में हो जाती है तो यह योजना बंद हो जाएगी।

अगर आपको पेमेंट लेट हुई तो आपको 50 रूपय पैनल्टी भी भरनी पड़ सकती है। यह खाता पोस्ट ऑफिस में ही नहीं खुलता है बल्कि कई सरकारी व निजी बैंक में भी इस योजना के तहत खाता खुलवा सकते हैं।

अगर आपकी दो बेटियां हैं तो आप अपने दोनों बेटियों के लिए खाता खुलवा सकते हैं। अगर Judwaa है तो उसका प्रूफ आपको दिखाना पड़ेगा, तभी आपका तीसरा खाता खुल पाएगा।

बेटियों के मां बाप कभी भी खाते का ट्रांसफर करवा सकते हैं। मांन लीजिये बेटियों की सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 2015 में कोई भी व्यक्ति 1000रुपए महीने में अकाउंट खुलवा सकता है। उसे 14 साल तक यानी 2028 तक आपको हर साल 12000 डालने होंगे और जो हिसाब होगा उसे हर साल 8.6 फिसदी ब्याज मिलता रहेगा। जब आपकी बेटी 21 साल की हो जाएगी तो उसे 6,07,128   रुपए मिलेंगे।

बेटी के शादी से मां बाप बहुत परेशान रहते हैं। इस योजना सुनने से उन्हें काफी राहत मिल जाएगी। कुछ मां-बाप की मजबूरी भी हो जाती है लिंग अनुपात करवाने की।  इस योजना से उन्हें काफी खुशी मिलती है। बेटियों की कमी हो गई थी। हमारी यह योजना हमें एक सहनशक्ति दे रही है। हमें बेटियों को बचाना है। बेटियों के बिना हम अधूरे हैं वो हमारी खुशी है। और खुशी की बात तो यह है कि आप 14 साल में केवल 1.68 लाख जमा करेंगे और आपको 4,39,128   रुपए ब्याज के साथ मिलेगा।
बेटियों के लिए सरकार ने यह योजना बनाई है।

सुकन्या समृद्धि योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज (  sukanya samriddhi yojana ke liye documents )

इस दस्तावेज में आपको

  • बच्चे के जन्म का प्रमाण पत्र,
  • एड्रेस प्रूफ,
  • ID प्रूफ,
  • सुकन्या समृद्धि योजना का जो फॉर्म है वह ऑनलाइन आपके लिए उपलब्ध है। उस फॉर्म को डाउनलोड करें और उसे भर के ऑनलाइन सबमिट करें।