Happy New Year Sms In Hindi

नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ! ( Happy New Year Sms In Hindi  )

नए साल में हम सबको मिलकर प्रण लेना चाहिए। कि हम कुछ ऐसा करेंगे जो किसी के लिए मिसाल बन जाए। जरूरी नहीं है कि नए साल में अपने करियर या इन सबको लेकर ही कुछ करना है। बल्कि आप कुछ अलग भी कर सकते हैं जैसे कि भ्रष्टाचार कैसे खत्म हो इस पर विचार कर सकते हो। लोगों के साथ अपनी राय शेयर कर सकते हो। ताकि उन्हें ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिल सके। हम सब तो यही दुआ करते हैं कि पूरे देश का पूरे विश्व का नए साल पर भला हो। आपका पूरा साल सुखमय और शांति से जाए। आपको जिंदगी की हर खुशियां नसीब है। वो भी नसीब भी किसी-किसी के अच्छे होते हैं और भगवान करे उन अच्छे नसीब में आपका नाम है। ( Happy New Year Sms )

नए साल पर कुछ खास करें, किसी खास को आज याद करें, किसी और से बात करें, नए साल की शुभकामनाओं के साथ इस दिन की शुरुआत करें, दिल में आया एक ख्याल क्यों न शुरुआत आपसे बात करके करें।
Happy New Year !

हर पल में फूल खिले,
खुशियों के घर बार मिले,
दुखों का ना करना पड़े सामना,
ए खुदा पूरी कर आज मेरी मनोकामना।
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

काम करो पहचान बन जाये;
कदम चलो निशान बन जाये;
जिंदगी तो यूं सब गुजार लेते है
जियो ऐसी जिंदगी 2018 में आप एक मिसाल बन जाये।
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

हर साल आता है ढेर सारी खुशियां लाता है।
इस साल भी मिले खुशियों का भंडार,
जिसे देख कर आपका दिल झिलमिलाता है।
नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामना !

ए खुद आज पूरी कर मुराद हमारी,
खुशियां मिले इनको लिए ढेर सारी,
गम तो कभी भूल कर ना देना,
चाहे हमारी एक हंसी कम कर देना।
नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामना !

नई सुबह है नई उमंग है सपनों में है ख्वाब नया,
आज तुझे गले लगा ले, दिल में है प्यार नया,
मौसम के हम रंग बदल दे, नए साल में हर प्यार नया,
सभी खटास मिटा कर आये, जिंदगी में स्वाद नया।
नव-वर्ष की हार्दिक शुभकामना !

भगवान से है अब यही दुआ की नया साल आपको रास आए,
जो है आपके दिल के करीब वह खुद चलकर आपके पास आए,
नए साल में हो आप की भी शादी, नहीं होती है इससे कोई बर्बादी।
Happy New Year 2018

जिसे तू चाहे वह तुझे मिल जाए,
तेरा हर दिन खूबसूरत और राते रोशन हो जाए,
जिस लड़की के तू ख्वाब हे बुनता,
वह खुद चलकर तेरे पास आ जाए
मुबारक हो तुझे नया साल मेरे यार!

नए साल में कर लो वादा,
पक्का कर लो अपना हर एक इरादा,
बुरी आदतों को लात मारो,
अपनी जिंदगी को तुम सुधारो।
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

kya khub likha kisine

बचपन के cricket के रुल्स 😀😆
.
आठ ईंटो की विकेट होगी 😁
.
पहली try ball होगी 😁
.
जो बाऊन्डरी के बाहर ball फेकेंगा,वो खुद वापस लेके आयेगा…. 😁
.
बैटिंग टीम अम्पायरींग करेगा…. 😋
दिवार को डायरेक्ट लगा तो सिक्स,बॉल बाहर गयी तो आऊट…. 😍😍
.
आखिरी वैट्समैन अकेला वैटिंग कर सकता है…😎
.
जो बीच मे गेम छोरेगा,उसे कल नही खिलायेंगे.. 😗
.
जो बॉल बाहर फेकेगाा वो खुद लायेगा,नही तो खरीद कर देगा… 😍
.
छोटे बच्चे केवल fielding करेंगे, उनको लास्ट मे खिलायेंगे…😂
.
जब अंधेरा हो जायेगा ball slow करायी जायेगी..😝
.
दिवार को लग कर कैच हूआ तो not out…😌
.
तीन ball लगातार वाईड की तो औवर कैंसिल…😁😍
.
जो जीतेगा वो अगली बार पहले वैटिंग करेगा.. 😛
.
कीपर अगर आगे से बॉल पकरा तो out नही होगी,no ball मिलेगा.. 😜
.
बैटिंग नही आई तो fielding नही… 😏
.
तीन वॉल से ज्यादा पर रन नही बना तो रिटायर..😄😂😂
.
अगर एम्पायर की बात नही मानी तो देखने वाले का अंतिम फैसला होगा.. .😄
.
मैच के दौरान अगर घर से वुलावा आ गया तो जा सकता है, पारी नही कटेगी… 😃
.
जिसका वैट होगा ओपनिंग वही करेगा.. 😁
.
आउट होने पर अंपायर को कसम खाना पड़ेगा
तभी आउट मना जायेगा
।। ।।।।।।।
.
MISSING MY बचपन

Karva Chauth Vrat Ki Kahani Katha Pooja Udyapan Vidhi Hindi Me

जानिए कैसे रखते हैं करवा चौथ का व्रत और क्या है इसके पीछे की कहानी। ( Janiye kaise rakhte hai karva chauth ka vrat , iske piche kya hai kahani )

हम सभी लोगों को पता है कि करवा चौथ का व्रत भारतवर्ष में बहुत हर्षोल्लास से मनाया जाता है पूरे भारतवर्ष में करवा चौथ का व्रत सभी सुहागन महिलाएं मनाती है जितनी भी सुहागन महिलाएं होती हैं वह अपने पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखती हैं।

सुबह से लेकर शाम तक उनको यह उपवास बिना कुछ खाए पीए रखना पड़ता है, आज हम आपको बताते हैं कि व्रत करते समय महिलाओं को क्या करना चाहिए।

शाम को करवा चौथ का व्रत रखते समय उन्हें पूजा के समय दो करवा लेना चाहिए, उनमें से एक करवे में पानी भर के रखना चाहिए और दूसरे करवे में गेहूं भर देना चाहिए और सुहागन महिलाओं को किसी दीवार पर या फिर किसी कागज पर चंद्रमा की प्रतिमा के नीचे भगवान शिव और कार्तिकेय की प्रतिमा बना देना चाहिए और उसकी पूजा करनी चाहिए।

उन्हीं की प्रतिमा के आगे सभी महिलाओं को अपना दोनों करवा रख देना चाहिए जितनी भी महिलाएं होती हैं वह सुबह से लेकर शाम तक अन्न का एक कण अपने मुंह में नही डालती हैं ना कोई पानी ही ग्रहण करती है।

सुबह से लेकर शाम तक वह भूखी-प्यासी रहती हैं इतनी कठोर तपस्या इन महिलाओं को करनी पड़ती है।

शाम को जब वह चंद्र देवता के दर्शन कर लेती हैं तभी उनका व्रत शाम को खुलता है शाम को सभी महिलाओं को चंद्रमा देवता को अर्घ्य देकर ही अपना व्रत खोलना चाहिए जबतक चंद्र देवता को दिखाई नहीं देंगे तब तक यह व्रत पूरा नहीं माना जाता।

क्योंकि यह व्रत खास तौर पर चंद्रमा से भी जुड़ा है आज हम आपको बता दें कि इस व्रत को सभी सुहागन महिलाएं करती हैं जब भी कोई स्त्री इस उपवास का प्रारंभ कर देती है तो उसे यह जरुरी नहीं होता कि उसे पूरी जिंदगी ही अपना व्रत निर्जला रहकर ही बताना पड़े।

जब एक बार सुहागन महिलाएं व्रत शुरु कर देती है उसके बाद वह महिलाएं अपनी सुविधानुसार भी इस उपवास को रख सकती हैं जैसे कि फल जल और अन्य चीजें ग्रहण भी कर सकती है।

इस व्रत की तरह हमारे भारतवर्ष में एक और व्रत है जिसको हम लोग हरतालिका तीज कहते हैं इसमें भी महिलाएं निर्जला व्रत रहती हैं।

करवा चौथ की कथा  ( Karva chauth ki katha )

आज हम आपको बताते हैं करवा चौथ की क्या कथा है हमेशा ही जब भी करवा चौथ रखा जाता है तो शाम के समय पूजा के वक्त उन को करवा चौथ की एक कहानी सुनाई जाती है वही आज प्राचीन कथा हम आप को बताने जा रहे हैं।

पुरानी कथाओं के अनुसार बताया गया है कि एक नगर था उसमें एक साहूकार रहता था जिसके सात लड़के थे और एक लड़की थी कार्तिक महीने में जब कृष्ण पक्ष की चतुर्थी आई तो साहूकार की पत्नी जो की सुहागन थी उसने भी करवा चौथ का व्रत रखा शाम के वक्त जब सभी भाई भोजन करने लगे तब उन्होंने अपनी बहन को भी कहा कि आओ तुम भी भोजन कर लो,लेकिन उनकी बहन ने भोजन करने से मना कर दिया, मना करने पर भाइयों ने पूछा तुम भोजन क्यों नहीं कर रही हो तो बहन ने जवाब दिया कि आज मैंने व्रत रखा है और चंद्रमा निकलने के बाद ही मैं अपना व्रत खोलूंगी।

भाई उससे बहुत ज्यादा प्यार करते थे इसलिए उन्हें बहन का मायूस चेहरा देखा ना गया, भाइयों ने बाहर जाकर एक बहुत ज्यादा बड़ी आग लगाई और अपनी बहन से कहा कि देखो बाहर चंद्रमा निकल गया है तू मायूस ना हो और अपना व्रत खोल लो,बहन जाकर सभी भाभियों से कहती है कि चंद्रमा निकल आया है चलिए सभी व्रत खोल लीजिये।

लेकिन उसकी भाभियों ने उसे अपने भाइयों की सभी युक्ति के बारे में बताया लेकिन बहन ने उनका विश्वास नहीं किया और बाहर जाकर अपना व्रत खोल लिया,व्रत खोलने के उपरांत ही गणेश भगवान उनसे रूठ गए और नाराज होकर हो गए।

अब जब वो घर आई तो पाया कि उसके पति की तबीयत खराब होगी और उसके घर का सारा धन पति के इलाज में लग गया और वह पूरी तरह से गरीब हो गए तब उनकी बेटी को एहसास हुआ कि हां उसने गलत किया है और उसे अपनी गलती का एहसास हो गया।

वह अब पश्चाताप करना चाहती थी उसके बाद अगले वर्ष उसने पूरे विधि विधान से पूजा करी और गणेश जी की आराधना भी करी।

इस बार उसकी पूजा में श्रद्धा देखते हुए भगवान गणेश ने उस पर प्रसन्न होते हुए उसके पति को जीवन दान दिया और उसके परिवार में धन संपत्ति पूरी तरह से प्रदान करी।

इस प्रकार श्रद्धा भक्ति से करवा चौथ का व्रत रखने से हमारे घर में संसारिक क्लेश दूर होते हैं धन-संपत्ति आती है और पति की भी दीर्घायु बनी रहती है।

करवा चौथ का उद्यापन कैसे करना चाहिए ( Karva chauth ka udayapan kaise karna chahiye )

उसके बारे में जानिए कई लोग कई महिलाएं जो सुहागन होती है वह करवा चौथ का उद्यापन भी करना चाहती हैं वह उनकी इच्छा होती है इसलिए आज हम आपको बताते हैं कि करवा चौथ व्रत का उद्यापन करने के लिए महिलाओं को क्या करना चाहिए, करवा चौथ का उद्यापन करने के लिए महिलाओं को अपने घर में पूरी और हलवा बनाना चाहिए और पूरियों को थाली में चार चार के ढेर में 13 जगह अलग अलग रख देना चाहिए।

इन पुरी पर हलवा भी रख देना चाहिए और उसके ऊपर साड़ी ब्लाउज और अपनी इच्छा के अनुसार जितने भी रुपया रखना हो वह उसके ऊपर पर रख देना चाहिए और उसके चारों तरफ कुमकुम लगा देना चाहिए और अपनी सासू मां के चरणों से स्पर्श करा कर 13 ब्राह्मणों को भोजन करा कर उनको दान-दक्षिणा देकर विदा करते हैं जिससे कि आपका करवा चौथ का व्रत का उद्यापन हो जाएगा।

Global Warming Kya Hai Nibandh In Hindi

ग्लोबल वार्मिंग आखिर क्या है,क्यों है,कैसे है ( Global warming kya hai? Kyun hai? Kaise hai ?)

ग्लोबल वार्मिंग यह शब्द आप अभी नहीं बल्कि बहुत सालों से सुनते आ रहे हैं। पर इस शब्द को लोग बहुत हल्के में लेते हैं और उस पर ध्यान भी नहीं देते। जिस तरह से बहुत सारे प्राकृतिक आपदा बिना किसी को कोई सूचना दिए कभी भी आ जा सकती है और जब भी यह आती है लोगों का नुकसान ही करा कर जाती है। जैसे कि भूकंप, भीषण गर्मी,सुनामी आदि।

ग्लोबल वार्मिंग के कारण प्रभाव व समाधान  ( Global warming ke karan prabhaav v samadhaan )

अभी भी हम ग्लोबल वार्मिंग की समस्या दिन भर दिन बढ़ता ही देख रहे हैं। परंतु उसको हम रोजाना नजरअंदाज कर देते हैं और इस बात पर आप ध्यान दीजिए कि कुछ साल बाद आपको ग्लोबल वार्मिंग का असर और तेजी से दिखाई देने लगेगा। इसलिए बेहतर है की उसे नजरअंदाज ना करें बल्कि उसका समाधान निकालें।

ग्लोबल वार्मिंग क्या है? (  Global warming kya hai? )

आप जानते हैं असल में ग्लोबल वार्मिंग है क्या। ग्लोबल वार्मिंग को भूमंडल तापमान में वृद्धि को कहा जाता है। यह बात हम सब जानते हैं कि इंसान को जिंदा रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है इसलिए पृथ्वी पर ऑक्सीजन का होना बहुत जरूरी है। लेकिन बढ़ते प्रदूषण के कारण ऑक्सीजन की कमी होती जा रही है और कार्बन डाइऑक्साइड बढ़ती जा रही है। जिसके कारण ओजोन परत में एक छेद हो गया है जिसकी वजह से ऊपर से आने वाली पराबैंगनी किरणें सीधा धरती पर आती है। और इसका पूरा असर ग्रीन हाउस पर दिखाई देता है। जब यह किरणे ग्रीन हाउस पर पड़ती है तो उसे गर्मी और ज्यादा उत्पन्न होती है और अगर गर्मी का तापमान बढ़ता गया तो अंटार्कटिक बर्फ पिघलने लगती है। जिसकी वजह से वह बर्फ पिघल कर जल के रूप में तब्दील हो जाती है। वही रेगिस्तान में गर्मी का स्तर दिन भर दिन बढ़ता जा रहा है और साथ ही में रेत का क्षेत्रफल भी बढ़ता जा रहा है।

ग्रीन हाउस गैसेस के असंतुलन के कारण बढ़ रही है ग्लोबल वॉर्मिंग

क्या होती है ग्रीन हाउस गैसें?  ( Kya hoti hai green house gases ? )

सभी गैसें का अपना एक प्रतिशत होता है।  सारी गैसें धरती की परत में एक प्रतिशत में ही होती हैं। अगर यह गैसें का असंतुलन हो जाए तो ग्लोबल वॉर्मिंग जैसी समस्या शुरू हो जाती है।

क्यों हो रही है ग्लोबल वॉर्मिंग?( Kyun ho rahi hai global warming ? )

आजकल बढ़ रही ग्लोबल वॉर्मिंग का सबसे बड़ा कारण है प्रदूषण। जैसे-जैसे समय बदलता जा रहा है प्रदूषण भी बढ़ता जा रहा है। हर जगह हर क्षेत्र में प्रदूषण बढ़ रहा है। प्रदूषण के बढ़ने से कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जा रही है।  कार्बन डाई ऑक्साइड के बढ़ने के कारण ग्लोबल वॉर्मिंग हो रही है। आजकल हमारे पूरे विश्व में आधुनिकीकरण हो रहा है और आधुनिकीकरण को बढ़ावा देने के लिए पेड़ों की कटाई हो रही है। पेड़ों की कटाई होने के कारण कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा बढ़ती जा रही है। जैसा कि आपको पता ही है कि पेड़ कार्बन डाइऑक्साइड को ऑक्सीजन में बदलते हैं। यदि पेड़ ही नहीं रहेंगे तो कार्बन डाई ऑक्साइड ऑक्सीजन में कैसे बदलाव करेगी होगा। इसके अलावा बिल्डिंग, कारखाने आदि चीजों के कारण भी कार्बन डाई ऑक्साइड की मात्रा वातावरण में बढ़ती जा रही है।

इसके अलावा और भी कई ऐसे कारण है जिसके कारण कार्बन डाइऑक्साइड हमारे वातावरण में बहुत ज्यादा बढ़ती जा रही है। आजकल की गाड़ी मोटरो के धुएं से भी कार्बन डाइऑक्साइड बढ़ रही है।

ग्लोबल वॉर्मिंग के क्या-क्या प्रभाव है? ( Global warming ke kya kya prabhav hai ? )

जब कई बार हमारे देश पर कोई प्राकृतिक आपदा पड़ती है तो हमें बहुत ज्यादा नुकसान होता है। ठीक उसी तरह ग्लोबल वॉर्मिंग भी एक बहुत बड़ी आपदा है। बस फर्क इतना है कि इस आपदा का प्रभाव धीरे धीरे होता है। सच्चाई तो यह है कि दूसरी आपदाओं की भरपाई हम सारे सालों में पूरी कर लेते हैं। लेकिन ग्लोबल वॉर्मिंग जैसे बड़ी आपदा से अगर हम घिर गए, तो इसकी भरपाई कर पाना बहुत मुश्किल होगा।

ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव ना केवल मनुष्य पर पड़ रहा है बल्कि पशु पक्षियों पर भी पड़ रहा है। ग्लोबल वॉर्मिंग के होने के कारण बहुत सारे जीव जंतु पशु पक्षी लुप्त हो रहे है। ऐसी बहुत सी जगह है जहां पर 12 महिना बर्फ की चादर रहती थी, पर ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण गर्मी पड़ रही है।  इस गर्मी के बढ़ने के कारण बर्फ धीरे धीरे पिघलने लगी है। बर्फ पिघलने के कारण समुद्री जल का स्तर बढ़ रहा है। भीषण गर्मी होने के कारण रेगिस्तान का विस्तार हो रहा है अगर ग्लोबल वॉर्मिंग ऐसे ही बढ़ती रही तो गर्मी भी बहुत ज्यादा बढ़ जाएगी और अभी गर्मी होने के कारण हमारे वातावरण में असंतुलन फैल जाएगा। इस असन्तुलन  के प्रभाव तो हम देख ही रहे हैं। कहीं पर ज्यादा वर्षा, कहीं पर ज्यादा गर्मी, कहीं अधिक ठंड, अचानक सूखा पड़ जाना आदि। ग्लोबल वार्मिंग का प्रभाव सिर्फ केवल वातावरण पर ही नहीं पड़ रहा बल्कि हमारे शरीर पर भी पड़ रहा है। ग्लोबल वॉर्मिंग के कारण मनुष्य किसी न किसी बीमारी से ग्रस्त होता जा रहा है। शुद्ध ऑक्सीजन न मिलने के कारण लोगों को सांस लेने में समस्या हो रही है। कइयों को घुटन की बीमारी आधी हो गई है।

ग्लोबल वॉर्मिंग को खत्म करने का तरीका। ( Global warming ko khatam krne ka tariqa )

यदि कल हम ग्लोबल वॉर्मिंग को खत्म करना चाहते हैं तो हमें एक ही नारा अपनाना होगा।

पृथ्वी बचाओ, बचेगी पर्यावरण बचाओ।

छोटी-छोटी कोशिशें करने से ही हम ग्लोबल वार्मिंग को रोक सकते हैं। हम सबको यह इस बात का खास ध्यान देना होगा कि हम अधिक से अधिक मात्रा में पेड़ लगाएं और पेड़ों के कटने को रोके।

पेड़ों को हमेशा मौसम के अनुसार ही लगाएं। यदि आप लंबी यात्रा पर जा रहे हैं तो कार किस बजाए आप ट्रेन का इस्तेमाल करें। ऐसा करने से प्रदूषण कम होगा। दैनिक जीवन में जहां तक हो सके आप दुपहिया वाहन की बजाय सार्वजनिक बसों में सफर करें। जितना ज्यादा हो सके आप बिजली से चलने के साधनों की जगह सौर ऊर्जा से चलने वाले साधनों का इस्तेमाल करें। जल का अच्छे से प्रयोग करें। आधुनिक चीजों का उपयोग कम से कम करने करें। कोशिश करें जितना ज्यादा हो सके देश से या घरेलू चीजों का उपयोग करें। फ्रीज की जगह मटके का पानी पिए। ऐसे बहुत से निवारण है जिनसे आप ग्लोबल वॉर्मिंग को कम कर सकते हैं।

Holi Sms

आज हम होली के त्योहार को लेकर आपके लिए शायरी लेकर आए हैं। होली का त्यौहार रंगबिरंगा त्यौहार है। इस सतरंगी और अतरंगी दुनिया में रंग बिरंगी होली खेलने का अपना ही अलग मजा है। इस दिन बच्चे रंगों से भर कर अपनी पिचकारी लेकर एक दूसरे को रंगने चल देते हैं। उनको इस त्यौहार पर बहुत ही मजा आता है। वही बच्चे तो बच्चे होते ही हैं परंतु बड़े बूढ़े भी इस दिन बच्चे बन जाते हैं। वह भी अपने साथ संघियों के साथ होली का मजा लेते हैं। कोई गली कोई घर आपको ऐसा नहीं दिखाई देगा जहां होली का रंग ना छाया हो। इस दिन कोई किसी से नहीं डरता है कि अगर वह उस पर रंग डाल देगा तो सामने वाला क्या सोचेगा। इसीलिए तो कहते हैं बुरा ना मानो होली है। अगर आपका भी कोई प्रेमी या प्रेमिका आपसे रूठा हुआ है तो नीचे दी गई शायरी सुनाकर उस पर भी अपने प्यार का रंग चढ़ा दे। उसे भी समझा दे कि इस बार आप की होली का रंग उस पर ऐसा चढ़ेगा कि जिंदगी भर नहीं उतरेगा।

  • प्यार की बारिश कर देंगे आज,
    प्यार की छीनटों से भीगा देंगे आज,
    रंगों के निशाने हमारे ही होंगे,
    इस तरह भीगो देंगे आज।
    हैप्पी होली
  • तेरे साथ भीग कर पानी में,
    तुझ में समा जाना है,
    होली के रंगों से होकर रंगीन आज,
    तेरे गालों पर अपने प्यार का रंग लगाना है।
    Happy Holi 2018
  • अपने रंग में भिगो दो जरा,
    रंग की लाली लगा दो जरा,
    करीबियां बढ़ जाएंगे इससे ,
    इसी बहाने तुझे छू लूं जरा।
    बुरा न मानो होली है
  • होली के दिन रंगो से नहीं डरे,
    घर में आए होली के मेहमानों से नहीं डरे, आओ कुछ ऐसा काम करें,
    चलो खाली बैठे हैं पिचकारी भरे।
    रंग दो होली पर
  • दिल से दिल को मिलाने का मौसम आया है,
    बढ़ी हुई दूरियों को मिटाने का मौसम आया है,
    खुशियों भरा होली का त्यौहार आया है,
    एक दूसरे के रंग में डूब जाएं ऐसा मौसम आया है।
    होली का मौसम आया है
  • इस अतरंगी दुनिया का रंगीला त्यौहार है होली,
    भुला दो अपनों की गलतियों को माफ कर देने का त्योहार है होली।
    होली मुबारक है

  • मेरे भी घर आओ यारों,
    होली का रंग लाओ यार,
    खूब करेंगे एक साथ मस्ती,
    धूम मचाने आओ यारों
    हैप्पी होली
  • रंगों की ना होती कोई जात
    वो तो लाते बस खुशियों की सौगात
    हाथ से हाथ मिलाते चलो
    होली हैं होली रंग लगाते चलो
    होली है होली है
  • पिचकारी की रंगोली लाई गलियों में बौछार,
    इस बार भी मांगी है बच्चों ने अनोखी पिचकारी हर बार,
    बच्चे होते हैं मासूम उन्हें होता पर्व से प्यार,
    इसीलिए तो बच्चे होते यारों की यार।
    रंग से भरी पिचकारी मुबारक हो
  • होली के होते नाम हजार,
    इस बार करो कुछ खास काम यार,
    रंग लगा दो एक दूसरे को लाल और पीला,
    प्रेमी के संग मनाओ रासलीला।
    हल्ला हल्ला होल आयी
  • होली खेलना तो मेरे लिए एक बहाना है,
    काम तो मेरा बस तुम्हें पास लाना है,
    मिलकर तुमसे तुम्हारे रंग में खो जाना है,
    होली का दिन बस तुम्हारे साथ बिताना है।
    हल्ला हल्ला होल आयी
  • होली पर कन्हैया ने रचाई रासलीला,
    गोपियों को लगाया रंग हरा और पीला,
    तुम भी आ जाओ मेरे पास सनम,
    बंध जाएं रंग में हम इस जन्म।
    हल्ला हल्ला होल आयी

अन्य पढ़े

रोमांटिक शायरी

आज हम आपके लिए रोमांटिक कह लीजिए या फिर प्यार भर कह लीजिए। कुछ भी कह दीजिए जो इन शायरियों मेरी बात है वह आपके प्रेमी या प्रेमिका तक जरुर पहुंचेंगी। वैसे तो हम यह शायरियां खास तौर पर वैलेंटाइन डे के लिए लेकर आए हैं क्योंकि इस दिन दो प्यार करने वाले मिलते हैं। वैसे तो प्यार जताने के लिए कोई खास दिन नहीं होता है। आप किसी भी पल हर पल को खास और प्यार भरा बना सकते हैं। परंतु आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में लोग इतने व्यस्त हो गए हैं कि एक दूसरे के साथ समय बिताने का टाइम नहीं मिलता। परंतु जब कोई त्यौहार आता है या कोई फेस्टिवल या पर्व कुछ भी आता है उस समय हर कोई अपने परिवार को समय देना शुरु कर देता है। इसीलिए हम प्यार करने वालों के लिए यह वैलेंटाइन डे मनाया गया है। ताकि इस दिन को खास समय निकालकर अपने खास के साथ खास जगह पर जा सके और उसे कुछ स्पेशल फील कराएं। ताकि वह आपकी जिंदगी में प्यार की मीठी रस घोल दे। इसीलिए हम यह शायरियां लेकर आए हैं ताकि जो आप से रूठ गए हैं उंहें मना सके। वैलेंटाइन डे पर या फिर जो आपसे प्यार करते हैं मगर कहते नहीं है उनसे आप वह बातें उनकी जुबान तक ला सके। कुल मिलाकर आप यह कह लीजिए कि आप अपने प्यार से प्यार और दिल से दिल तक की बात कह सकें और इन तारों को जोड़ सके।

Hindi Romantic Shayari In Hindi

  • हर जगह तुम्हारा किस्सा है,
    मेरी जिंदगी में तुम्हारा हिस्सा है,
    नहीं आता छोड़ कर तुम्हें जीना ,
    तुम्हें देखकर धड़कता है मेरा सीना
  • तुम्हें भूलने के लिए हमें जमाने लगे,
    फिर भी तुम्हें भुला ना पाए,
    बुरा ना मानो तो एक शाम हमारे नाम कर दो,
    क्योंकि खुद से तुम्हें हम चुराने लगे।
  • तुम्हें देखकर क्यों ऐसा लगता है,
    जैसे ढूंढ रहे थे जैसे सदियों से तुम वही हो,
    छोड़ कर आ जाओ सारी दुनिया को,
    प्यार में तो 1 मिनट सदियों जैसा लगता है।
  • दिल से जब दिल का टक’रार होता है
    हर पल बस का इतं’ज़ार होता है
    दिल रोते है लोग हंसते है
    क्योंकि इसी का नाम प्यार होता है।
  • हर किसी को अपनी किस्मत से शिकायत क्यों है,
    आखिर में जो मिल नहीं सकता उसी से प्यार क्यों है,
    अगर चल पड़े प्यार की राह पर,
    तो उसी राह पर इतने खड्डे क्यों है।
  • आंसू के बदले क्या खुशी दोगे,
    कांटो के बदले क्या फूल दोगे,
    हमें तो चाहिए जीवन भर साथ आपका,
    इस जिद्द का जवाब क्या दोगे
  • हमारे प्यार की ख्वाहिश अधूरी है ,
    पर हमारी जिद्दी ये पूरी है,
    Tum he अपनी जिंदगी में लाना,
    हमारे लिए बहुत जरुरी है।
  • इश्क इतना मत करो कि किसी को खुमार हो जाए,
    हम तो यही सलाह देते हैं दोस्तों,
    की चक्कर ऐसा चला कि वैलेंटाइन डे पर किसी को तुमसे प्यार हो जाए।
  • तुम्हारी खूबसूरती किसी हकीकत से कम नहीं,
    जिसे तुम मिल जाओ वह किसी दौलत से कम नहीं,
    मत देखा करो तुम शीशा,
    तुम किसी चांद की खूबसूरती से भी कम नहीं
  • मेरी चाहत के जिद हो तुम,
    हर दिल की धड़कन हो तुम,
    मेरे होठों की खिलखिलाती हंसी हो तुम,
    देखकर उड़ जाती है नींद मेरी,
    उसके लिए चाहत हो तुम
  • प्यार में पड़ जाओ तो हंसाता है प्यार,
    प्यार में खो जाओ तो रुलाता है प्यार,
    प्यार के पल समेट लो,
    तो पल याद दिलाता है प्यार,
    दूर चाहे कोई कितना भी हो,
    पास रहने का एहसास दिलाता है प्यार
  • प्यार करो किसी से इतना कि हर दिन आ रहे
    एतबार करो किसी पर इतना कि कोई शक न रहे,
    वफ़ा करो किसी से इतनी बेवफाई ना रहे,
    और रबसे करो दुआ इतनी कि तुम में जुदाई ना रहे।
  • दिल जिनके लिए मचलता है,
    उनको क्यों नहीं इस बात का पता लगता है,
    क्यों कर लिया है इस कदर मेरे दिल पर कब्जा,
    बार बार समझाने पर भी उनके लिए धड़कता है
  • तुम्हें सामने बिठा कर दीदार करना है,
    तुम्हें अपनी बाहों में भरके बहुत प्यार करना है,
    मजबूरी मेरी समझना कोई एतराज ना करना,
    हम हमेशा तुम्हारे रहेंगे इस बात पर ऐतबार करना।
  • एक बार तो यह कह दो कि तुम्हें प्यार है हमसे,
    इस इंतजार में कितने पल बिता दिए कब से,
    हमारी चाहत का ऐतबार करो क्योंकि हमें भी प्यार है तुमसे।
  • तेरी पहली मुलाकात जिन्दगी में एक बहार लाई थी,
    हर आईने में तेरी तस्वीर मुझे नजर आई थी,
    लोग कहते हैं प्यार में नींद उड़ जाती है,
    हमने तो नींदों में ही प्यार की दुनिया बनाई थी।
  • तुम्हें देखते ही मेरी जिंदगी में एक उम्मीद जागी थी,
    जब भी कोई आइना देखूं तुम्हारी तस्वीर सामने आई थी,
    लोग कहते थे इसे प्यार कहते हैं,
    इसीलिए तुम्हारे साथ सपनों में प्यार की दुनिया बसाई थी।
  • दूर तो तुमसे बहुत है और आज भी प्यार तो है,
    तुम्हारे हजार इंकार के बाद भी तुम्हारा आज भी इंतजार तो है,
    भूलना अगर इतना आसान होता तो,
    तुम्हें कहना ना पड़ता और तुम्हें भूल जाते,
    पर तुम्हारे लिए दिल बेकरार आज तो है।
  • romantic hindi shayari
  • अनजान बनकर हमें सताया न करिए,
    दिल तोड़ कर हम को तड़पाया ना कीजिए,
    जिंदगी का क्या भरोसा कल हम हो ना हो,
    नजर हम से चुरा कर हमें नीचा दिखाया ना करिए।

Love Shayari

Love Shayari In Hindi

तेरे नाम से मेरे नाम को बस जोड़े रख,
मुझे फर्क नहीं पड़ता कि तू वफा करे या बेवफाई करे,
मेरे लिए तो यही बहुत है कि तेरा नाम मेरे पास है,
बस उसे अपने पास संभाले रखा।

प्यार की जिंदगी में हार जाने वाले ही अपने प्यार को पाते हैं,
दुनिया भले उन्हें लाख बुरा भला कहे
परंतु अपने प्यार को पाकर वह सदा मुस्कुराते हैं।

नाराज है तो गुस्सा उतारने के लिए आ,
सजा पाने के लिए तैयार बैठे हैं
कम से कम गुनाह बताने के लिए तू आ,
हम तो हमेशा ही तुझे मनाते रहें है,
कभी तू भी हमें मनाने के लिए आ।

Behtreen Shayari

हसीनों से मिलें नज़रें अट्रैक्शन हो भी सकता है,
चढ़े फीवर मोहब्बत का तो एक्शन हो भी सकता है,
हसीनों को मुसीबत तुम समझ कर दूर ही रहना,
ये अंग्रेजी दवाएं हैं रिएक्शन हो भी सकता है।

dil todne wali shayari

जिंदगी खुशी का नूर है उसे प्यार करो,
जो दर्द मिला अपनों से उसके ढलने का इंतजार करो,
हर लमहे और हर जर्रे में प्यार बसा है,
हम पर नहीं तो खुद पर ऐतबार करो।

Dosti Shayari

ना मैं दोस्ती छोड़ सकता हूं,
ना मैं इश्क से दूर जा सकता हूँ
क्योंकि यह दोनों मेरे जहान है
जहां बात आई इश्क की तो फिदा कर दूं अपनी पूरी जिंदगी,
पर दोस्ती के आगे तो मेरा इश्क भी कुर्बान है।

Dil Todne Wali Shayari Hindi

ऐसा कहा जाता है कि जहां प्यार होता है वहां झगड़ा भी होता है। इसलिए प्यार वाली जगह में रुठना मनाना चाहता रहता है। तो आज हम आपके लिए कुछ ऐसे ही शायरियां लेकर आए हैं। कहते हैं कि अगर आप से कोई नाराज है तो उसे मनाने के लिए आपको उसे सॉरी बोलना पड़ेगा। उसे माफी मांगना पड़ेगा और माफी मांगने का भी अंदाज थोड़ा अलग हो तो वह जल्दी मान जाएगा और उसे बहुत अच्छा भी लगेगा। इसीलिए कुछ नए अंदाज में हम आपके लिए शायरी लेकर आए हैं। ताकि आप अपने रूठे हुए प्यार को मना सके। सॉरी आप सिर्फ अपने प्यार से नहीं बल्कि अपने भाई, बहन, मां, बाप दोस्त और करीबी लोगों से मांग सकते हैं। जरुरी नहीं कि आप सिर्फ सॉरी की शायरी अपने प्यार को ही सुनाए बल्कि आप अपने मां बाप या जो भी करीबी लोग हैं उनको भी सुना सकते हैं। और यह सॉरी मांगने का अंदाज हम दावा करते हैं कि उसको जरुर पसंद आएगा। वह झट से आप को माफ कर देगा और आपके बीच में जो भी दूरियां आए हैं वह सब खत्म हो जाएंगे।

जहां प्यार है वहां रुठना मनाना तो लगा रहता है,
इसी की वजह से आपसे प्यार बढ़ता रहता है, कहकर सॉरी बढ़ा लो नज़दीकियां , झटके में मिटा दो इतने दिन से आई हुई दूरियां।
Sorry my love

Dil Todne Wali Shayari Hindi

हमसे यू न यूं रूठ जाइए,
हुई गलती हमसे पर आप मान जाइए,
हमसे यूं ना दूर जाइए,
खामोश हो करना हमको न सताइए
बस एक बार आप मुस्कुराइए

सॉरी j…u

मेरा यार हमसे रूठ कर दूर बैठा है कहीं,
उसकी याद में मेरा दिल तड़प रहा है कहीं,
जाओ कोई उनसे हमारी खता पूछ कर आओ,
जिंदगी भर इंतजार करेंगे बैठ कर हम यही।

अपने गुस्से भरी नजरों से वह दूर से हमें निहारते है,
ना जाने क्यों हमसे खफा से वह लगते हैं,
हम खुद नहीं जानते कि गलती से क्या गलती कर बैठे हैं
हम तो अपनी हर सांस से भी ज्यादा उसे प्यार करते हैं

दिल रो रहा है तेरे दूर जाने से,
क्यों नहीं आता तू मेरे बुलाने से,
माफी मांग लूंगी मैं तुझसे,
तू एक बार तो आ जा किसी बहाने से।

भूल हो गई मेरे प्रियतम,
मान भी जा मेरे सनम,
एक बार तो हमें प्यार से निहार ले,
दोबारा नहीं करेंगे यह गलती तेरी हे कसम।

जिसकी खुशियों के लिए हमने खुद को अलग कर दिया दुनिया से,
आज वह हमसे नाराज नजर आ रहे हैं,
ऐसा भी क्या गुनाह हो गया हमसे
एक बार तू सजा तो सुना,
हम वह भी सह लेंगे तेरी कसम से

 

मिलने गए आज हम उससे,
पर वो खफा सा नजर आया है,
हमने कही बहुत सी अपने दिल की बातें,
पर उसने नजर से नजर ना मिलाया है।

चांद तो हम से कोसों दूर है,
पर उफ़ तेरी अदा है,
रुठा हुआ तो बड़ा प्यारा लगता है,
बड़ा प्यारा लगता है,
हमको जो तेरे चेहरे पर नूर है

काश हम रुठे हुए को मना पाते,
काश तुम हमारे बेचैनी को समझ पाते,
तेरी याद हमें इस कदर तड़पा रही है,
काश हम तेरे ख़यालों को पढ़ पाते

तुम्हारे ऊपर ऐसा शब्दों का जाल बून दिया,
परंतु दिल में ऐसी कोई बात नहीं थी।
खुद शर्म आ रही है अपने अल्फाजों के लिए
क्योंकि मुझे खुद से ऐसी कोई उम्मीद ना थी।

मुझसे कोई मेरा करीबी बहुत नाराज था,
इसलिए आज मेरा दिल बहुत उदास था,
बहुत बहलाया मैंने अपने मन को,
पर जब मुड़कर देखा तो कोई ना आस-पास था।

Behtreen Shayari

Behtreen Shayari In Hindi

आ जाओ किसी रोज़ तुम तो तुम्हारी रूह मे उतर जाऊँ !
साथ रहूँ मैं तुम्हारे ना किसी और को नज़र आऊँ !
चाहकर भी मुझे कोई छू ना सके मुझे कोई इस तरह !
तुम कहो तो यूं तुम्हारी बाहों में बिखर जाऊँ !

जिंदगी में खास हो तुम,
मायूस चेहरे की मुस्कान हो तुम,
मेरी हर सांस और धड़कन पर सिर्फ तेरा नाम है ,
तू खुशी से कबूल कर ले मेरी चाहत को मेरी यही अरमान है।

ताजे फूल की खुशबू है तुझ में,
रात के चांद की ठंडक है तुझ में,
छुई मुई पेड़ के जैसा अहसास है तुझ में,
तू है मुझमें और मैं हूं तुझमें।

 

धनतेरस लक्ष्मी का है आगमन

धनतेरस  लक्ष्मी का है आगमन ( dhanteras laxmi ka hai aagman )

हिंदू प्राचीन कथाओं के अनुसार धनतेरस पर सूर्य अस्त होने पर यानी कि प्रदोष काल में पूजा करनी चाहिए। धनतेरस के दिन की पूजा का जो सबसे अच्छा मुहूर्त है उसी में पूजा करनी चाहिए। पौराणिक कथाओं के अनुसार, हमें लक्ष्मी पूजा प्रदोष काल में ही करनी चाहिए। क्या आप जानते हैं कि धनतेरस को धनवंतरी त्रयोदशी भी कहते हैं। धनतेरस पूजा को धनवंतरी त्रियोदशी, धनवंतरी जयंती पूजा, यमद्वीप और धनत्रयोदशी इन सब रूपों में इसे पूजा जाता है।

धनतेरस   ( Dhanteras )

यह धनतेरस को पूरे भारत में आस्था के साथ मनाया जाता है। और इसे भारत और दूसरे देशों में  मनाया जाएगा।

धनतेरस क्या है ( dhanteras kya hai )

धनतेरस पूरे भारत के साथ-साथ दूसरे देशों में भी 5 दिन लंबे दिवाली समारोह के पहले दिन का त्यौहार है।

धनतेरस का अर्थ है ( dhanteras ka arth kya hai )

हिंदू चंद कैलेंडर के अनुसार कार्तिक के महीने में 13 दिन धन की पूजा की जाती है। इसे ही धनतेरस कहा जाता है। इस दिन धन के लक्ष्मी की पूजा होती है और इस दिन नई नई वस्तुएं खरीदी जाती है। क्योंकि हिंदू परंपरा के अनुसार माना जाता है कि नई वस्तु खरीदने से घर में लक्ष्मी आती है।

धनतेरस कैसे मनाया जाता है ( Dhanteras kaise mnaya jaata hai )

धनतेरस पर लोग अपने घरों की साफ सफाई करते हैं। अपने अपने घरों को अच्छी तरह से सजाते हैं। मिट्टी के दिए जलाते हैं और कई परंपराओं का पालन करते हैं। देवी लक्ष्मी के पैरों को लाकर अपने घरों में लगाते हैं
बने बनाए पैर भी मार्केट में मिलते हैं। जिसे घर में चिपकाए जाते हैं। फिर सूर्यास्त के बाद गणेश और लक्ष्मी की पूजा करते हैं। गुलाब और गेंदे के फूल की माला लाते हैं। पूजा के लिए मिठाई, देसी घी का दीपक, धूप, अगरबत्ती यह सब का इस्तेमाल किया जाता हैं।इन सब से घर मे पूजा करने से समृद्धि और अच्छे के लिए पूजा होती हैं। लोग देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की मन वह मन में उच्चारण भक्ति, गीत, आरती बड़े भाव के साथ गाते हैं। नए कपड़े और गहने औरतें पहनती हैं। यह सब अपने घर की खुशहाली के लिए किया जाता है।

धनतेरस की कहानियां और किवदंतियां ( dhanteras ki kahaniyan )

धनतेरस की खुशी इसलिए मनाई जाती है क्योंकि ये राजा हिमा के 16 साल के बेटे की कहानी पर आधारित है। राजा के बेटे के बारे में ऐसी भविष्यवाणी हुई थी, कि उसकी मृत्यु शादी के चौथे दिन ही हो जाएगी। सांप के काटने की वजह से ऐसा होगा। उसकी पत्नी बहुत ही समझदार और चालाक थी। उसने अपने पति का जीवन बचाने का रास्ता सोच लिया था। उस दिन अपने पति को उस ने सोने नहीं दिया था। उसने अपने सोने चांदी के आभूषणों को इकट्ठा किए। अपने सोने वाले कमरे मे इन सब का ढेर लगा दिया और अपने शयनकक्ष में ढेर सारे दिए जला दिए। उसने ऐसा इसलिए किया था कि उसका पति जागता रहे। मृत्यु के देवता यम सांप के रूप में पहुंचे तो गहने और दिए की रोशनी से उनकी आंखे चौंधिया गई। वह कमरे में घुस नहीं पाए। फिर उन्होंने सिक्के के ऊपर से कूद के जाना चाहा, तो राजकुमार की पत्नी की मधुर गीत सुनते सुनते ही रात बीत गई। धीरे धीरे सुबह हो गई और वह बिना राजकुमार को लिए ही वापस चले गए। इस तरह अपने पति की रक्षा की। उस दिन से यह दिन धनतेरस के रूप में ये पर्व मनाया जाता है।

धनतेरस परंपराएं ( Dhanteras pramprayen)

धनतेरस की कई परंपरा है। अलग-अलग देशों में अलग-अलग परंपराएं हैं। नए बर्तन, सोने के आभूषण, चांदी के सिक्के, कैलेंडर, नई चीजें खरीदने से नया विचार मन में आता है। लोगों का मानना है कि नई चीजें लाने से साल भर हम नए विचारों को सोचते रहेंगे। घर में नई चीजें के आने का मतलब साल भर हमारे घर में लक्ष्मी लाने की पहचान है। लक्ष्मी की पूजा शाम को की जाती है। अलग-अलग रीती रिवाज है। जैसे कि दक्षिण भारत में गायों की पूजा की जाती है। क्योंकि गाय में लक्ष्मी का वास होता है। इसलिए यह धनतेरस का त्यौहार मनाया जाता है। हम इस तरह का खुशी और उल्लास से मनाते हैं। हमें बहुत खुशी मिलती है। यह हमारे त्योहार बुराइयों को छोड़कर अच्छाई और हमें ले जाता है।

ये सब रिवाज है धनतेरस मनाने के पीछे। इस दिन देवी लक्ष्मी का अहम पूजा होती है।

आती हे दीवाली से एक दिन पहेले करती हे पैसो की बारिश कहते हे हम इसको धनतेरस ये तो हे बड़ी सुहानी बड़ी मस्त..

हॅपी धनतेरस.. Happy Dhanteras

रोमांटिक हिंदी शायरी

जमाना चाहे कितना भी आगे चला जाए परंतु रोमांटिक शायरी का जमाना कभी नहीं जाता है। पहले भी लोग अपने प्रेमी प्रेमिका को मनाने के लिए या उसे प्रपोज करने के लिए रोमांटिक शायरी का इस्तेमाल करते थे। आज भी वही हाल है लोग उन्हें मनाने के लिए आज भी रोमांटिक शायरी का इस्तेमाल करते है। आज हम आपके लिए कुछ रोमांटिक शायरी लेकर आए हैं। अगर आप किसी रुठे हुए अपने को मनाना चाहते हैं या फिर किसी को आज परपोज करने के मूड में है तो इन रोमांटिक शायरी का इस्तेमाल करें। शायद यह रोमांटिक शायरी आपकी ज़िंदगी में किसी जादू की छड़ी का काम कर जाए।

हिंदी रोमांटिक शायरी (Hindi Shayari, Romantic Hindi Shayari)

दिल का दर्द युँ लफ़्ज़ों में बयाँ हो नही सकता,
इन आंखों से पे तस्वीर न धुल जाए ऐसा हो सकता,
तेरे प्यार का कुमार चला है इस कदर
कोई दूसरा हमारी दिल को छू जाए ऐसा हो नहीं सकता/

प्यार जैसा एह्साह भूल नहीं सकते,
दूर तुमसे हम रह नहीं सकते,
कुछ हो जाए आज ऐसा
कहानी हमारी बन जाए सोनी महिवाल जैसा
तुम्हारा प्यार

प्यार जिंदगी को बहुत कुछ सिखाती है,
हर पल को बदल जाती है,
जब भी देखूँ चांद का चेहरा,
तुम्हारी शक्ल उसमें नजर आ जाती है।

तुम से दूर जाने की कोशिश कि,
तुम्हें पास लाने की कोशिश कि,
दोनों कोशिश में ना कामयाबी मिली
हर जर्रे को तुझसे मिलाने की कोशिश की।

क्यों हम तुमसे न कुछ कह पाए
क्यों ना तुम हमसे कुछ कह पाए
न जाने यह दूरियां कैसी है
न जाने प्यार में मजबूरियां कैसी है।

ले तो आए हो सपनों की छांव में,
अब उसे निभाने की कोशिश करना,
अगर टूट गया हौसला तुम्हारा,
तो हमारा हाथ थामने की कोशिश करना।

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना ( Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana )

प्रधानमंत्री ने बहुत सारी योजना के बीच में एक प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना ( Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana )भी शुरू किया है। जिसे आम आदमी को बेहद राहत मिलेगी। असल में इस बीमा के चलते कम प्रीमियम में भी आम आदमी बीमा करवा सकता है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य यही है कि देश का हर एक व्यक्ति चाहे वह गरीब हो या फिर किसी मध्यवर्ग का हो। वह भी अपना बीमा करवा सके। ताकी अगर उसकी जिंदगी में किसी भी तरह की दुर्घटना हो जाती है तो उसे उस समय किसी दूसरे के आगे गिड़गिड़ाना ना पड़े। इसलिए इस योजना का फायदा हर कोई उठा पाए और आपको जानकर हैरानी होगी कि इस सुरक्षा बीमा योजना के तहत वार्षिक प्रीमियम सिर्फ ₹12 ही तय की गई है। इसका मतलब आप समझ ही गए होंगे यानी आपको हर महीने ₹1 देना है इसमें सिर्फ ₹1 प्रतिमाह में बीमा कवर देकर आप इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना से लाभ कौन उठा सकता है ( Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana se laabh Kaun utha sakta)

आप जानते हैं कि इस योजना का फायदा कौन उठा सकता है. असल में प्रधानमंत्री ने इस योजना का लाभ उठाने के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को फायदा मिले. इसलिए उन्होंने 18 से लेकर 70 साल तक के हर एक आयु का व्यक्ति इसका फायदा उठा सकता है. इस योजना के चलते हर एक नागरिक को हर एक महीने ₹ 1 का प्रीमियम जमा करना पड़ेगा. अगर इस बीमा योजना के चलते किसी भी इंसान की दुर्घटना हो जाती है. तो उसे 200000 रुपए की राशि दी जाएगी और ऐसी दुर्घटना में अगर कोई व्यक्ति विकलांग हो जाता है तो भी इस स्थिति में दो लाख की राशि मिलती है.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का लक्ष्य ( Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana ka lakshya )

इस बीमा का मुख्य लक्ष्य यही है कि यह बीमा गरीब से गरीब व्यक्ति भी करवा सके और उसका फायदा उठा सकें. अगर किसी व्यक्ति की योजना के तहत उसकी दुर्घटना हो जाती है. या फिर वह विकलांग हो जाता है या फिर उसकी मृत्यु हो जाती है. तो वह अपनी बीमा राशि को इस योजना के चलते क्लेम कर सकता है. एक बात का आप को ध्यान रखना है कि यह बीमा सिर्फ 1 साल के लिए वैद्य रहता है. इसको हर साल आपको रिन्यू करवाना है. इस योजना के चलते आंशिक तौर पर अगर कोई व्यक्ति अपंग हो जाता है तो उसे 100000 रुपए की बीमा राशि दी जाएगी.

किसे मिलेगा प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा का लाभ (kise milega Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana ka laabh)

यह सबसे महत्वपूर्ण बात है कि इस बीमा का लाभ किसे मिल सकता है. असल में इस बीमा का लाभ 18 साल से लेकर 70 वर्ष तक के हर एक नागरिक को हो सकता है. इस बीमा में आपको ₹ 1 प्रतिमाह और 12 रुपये साल की राशि जमा करनी है. अगर किसी भी नागरिक के पास एक से भी ज्यादा बचत खाते हैं तो वह व्यक्ति हर एक बचत खाते में इस बीमा का फायदा नहीं उठा सकता है. बल्कि उसे एक ही बचत खाते में यह बीमा करवाना होगा.

कैसे करें आवेदन क्या दस्तावेज हैं जरूरी प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना ( kaise kare awaden kya documents hai jaruri Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana )

अगर आप प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का हिस्सा बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपके पास कुछ खास दस्तावेज होने बहुत जरूरी है.उनमें से कुछ दस्तावेज यह है आधार कार्ड होना जरूरी है और अगर आपके पास आधार कार्ड है तो वह आपके बैंक खाते से जुड़ा होना बहुत जरूरी है. अगर आप इस योजना का फायदा उठाना चाहते हैं तो 1 जून से पहले आप इस योजना का फॉर्म भर कर दें और बैंक में जमा कर दें. अगर आपने इन सब प्रक्रियाओं को पार कर लिया है तो आप सुरक्षा बीमा योजना का लाभ उठाने के लिए तैयार है.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा का प्रीमियम कैसे अदा करें ( Pradhan Mantri Suraksha Bima  ka premium kaise ada kare )

अब आप सोच रहे होंगे कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का प्रीमियम कैसे भरा जाए. असल में इसे भरना बहुत ही आसान है.क्योंकि इस योजना के चलते 12 रुपए वार्षिक की राशि है जो आप को जमा करनी होती है. तो यह आपके बैंक द्वारा सीधे खाते से ही काट लिया जाएगा. आपको बार-बार बैंक के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा कवरेज का लाभ कैसे मिलता है (Pradhan Mantri Suraksha Bima  coverage ka laabh kaise milta hai)

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना पर क्लेम करने के लिए कुछ बातों का होना जरूरी है. अगर किसी व्यक्ति का दुर्घटना में वह गंभीर रुप से घायल है या फिर वह आशिंक रूप से विकलांग हो गया है तो उसे 100000 रुपए मिलता है. अगर दुर्घटना के समय उसकी मृत्यु हो जाती है या फिर वह दुबारा से विकलांग हो जाता है तो उसे 200000 रुपए योजना के तहत दिए जाएंगे.

कब भरें प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का फॉर्म ( kab bhare Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana ka form )

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना का अगर लाभ उठाना चाहते हैं और उसके उपभोक्ता बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 1 जून से पहले हर हाल में फॉर्म को सही तरीके से भरना है. उसमें जो भी नियम और दस्तावेज लिखे गए हैं वह सब ध्यान से पढ़ने है और उनको जमा करवाना है. उनको आप बैंक में जमा करवाएंगे जैसे ही आप फॉर्म भरकर बैंक में जमा करवाते हैं बैंक खुद ही आपके खाते से ₹ ​​12 की राशि काट लेगा. अगर कोई बीमा धारक दो से 4 वर्ष तक का नंबर कवरेज की इच्छा रखता है तो उस स्थिति में बैंक उसी हिसाब से आपके खाते से राशि काट लेगा.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा प्रीमियम की नहीं जमा की तो क्या होगा ( Pradhan Mantri Suraksha Bima  premium ki nhi jama ki to kya hoga)

अगर आपने प्रीमियम की राशि सही समय पर नहीं भरी या जैसे कि शर्त के अनुसार बैंक आपके खाते से पैसे खुद ही काट लेता है. और ऐसे में अगर आपके खाते में पैसे नहीं है तो बैंक या फिर बीमा कंपनी द्वारा पॉलिसी आपकी टर्मिनेट हो जाएगी. आपकी पॉलिसी दूसरी वजह से भी टर्मिनेट हो सकती है अगर आपके दो बचत खाते हैं और आपने दोनों में सुरक्षा बीमा योजना करवाया हुआ है. तो भी आप आपकी एक एकाउंट से ही राशि काटी जाएगी. और दूसरे अकाउंट से उस प्रीमियम को खारिज कर दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा से योजना कर में छूट का लाभ ( Pradhan Mantri Suraksha Bima Yojana se

tax me chuth ka laabh)

प्रधानमंत्री सुरक्षा

बीमा योजना का सबसे अच्छा फायदा यह है कि यह बीमा योजना 80 सी के तहत टैक्स फ्री है. अगर आप टैक्स फ्री रहना चाहते हैं तो जब आपको बीमा पॉलिसी के तहत एक लाख रुपए दिए जाते हैं तो आपको फॉर्म 15 जी या फॉर्म 15 एच जमा करवाना पड़ेगा. अगर आपने यह दोनों फॉर्म जमा नहीं करवाया है तो आपकी तनख्वाह से दो प्रतिशत टीडीएस काट लिया जाता है.

Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

क्या है प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना – कैसे पाये रोजगार जानिये
Kya hai Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana kaise paayen rojgaar jaaniye

आज हम आपको इस आर्टिकल में प्रधानमंत्री के द्वारा रोजगार को बढ़ाने के लिए और बेरोजगारी को खत्म करने के लिए जो योजना बनाई गई है। ( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ) उसके बारे में बताएंगे और आप को यह भी बताया जाएगा कि इस योजना का फायदा आप कैसे उठाएं और कैसे रोजगार हासिल करें।

देश के भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए और बेरोजगारी को जड़ से खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री जी ने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना या राष्ट्रीय कौशल विकास योजना लेकर आए हैं।

सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी जी ने इस योजना को लाने के लिए नीति आयोग से मीटिंग की थी। उसके बाद स्किल डेवलपमेंट मिशन के चलते उन्होंने इस योजना का नाम कौशल विकास योजना रखा। साथ ही में उन्होंने यह बताया कि हमारा देश दुनिया का सबसे अधिक युवा शक्ति वाला देश माना जाता है। जिसकी वजह से देश को एक ताकत मिलती है।

देश की गरीबी को अगर हटाना है तो यह योजना बहुत काम आएगी और इसका एक विशेष योगदान भी रहेगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मानना है कि अगर हम देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं तो दुनिया की जितनी भी आवश्यकताएं हैं उसका एक मानचित्र बनाना चाहिए और उसके अनुसार ही हमें मानव संसाधन को तैयार करना चाहिए। जिससे कि देश की उन्नति तो होगी ही और देश का भविष्य उज्जवल होगा।

Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का उद्देश्य -( Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana ka udyeshya)

· इस योजना के चलते पहले साल 2400000 वर्कर्स को रोजगार मिलेगा। उसके बाद यह संख्या 2022 में बढ़कर 40.2 करोड़ हो जाएगी।

· इस कौशल विकास योजना का मुख्य उद्देश्य है कि भारत देश के जितने भी युवा वर्ग के लोग हैं। उन को एकत्रित किया जाए। उनकी अंदर जो भी टैलेंट है या जो भी कौशल है उसको एक नए तरीके से निखार आ जाए और बाद में उनकी योग्यता के अनुसार उन को रोजगार दिया जाए।

· राष्ट्रीय कौशल विकास योजना में ज्यादा से ज्यादा लोग जुड़ सकें। इसी वजह से इस योजना के चलते लोन की सुविधा भी दी जाएगी ताकि इस दिशा में जो भी कार्य चल रहा है उसे सुचारु रुप से और सही ढंग से चल सके।

प्रधानमंत्री जी ने कहा कि देश की जनसंख्या में 65 % युवा हैं जिनकी उम्र 35 से कम हैं यदि इन्हें समय पर रोजगार दिया जाए तो आसानी से देश उन्नति की ओर बढ़ सकता है। इस लिए राष्ट्रिय कौशल विकास योजना देश को उन्नतिशील बनाने हेतु लायी जा रही है।

पीएम नरेंद्र मोदी जी चाहते हैं कि जो लोग हायर एजुकेशन लेते हैं उसके बाद उन्हें रोजगार तो आसानी से मिल जाता है। परंतु इसके अलावा हमें ऐसे भी ट्रेनिंग की सुविधा दी जानी चाहिए जिससे कि उन्हें कोई खास जिसमें उनका कौशल हो वह निखर के बाहर आ सके। ऐसी ट्रेनिंग उन्हें मिले और इससे उन्हें रोजगार आसानी से मिल सकेगा और साथ ही में ऐसे में उन्हें कम मेहनत और ज्यादा तनखाह मिलेगी।

कैसे जुड़े प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना से ?-( Kaise jude Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana se )

· अगर आप इस योजना के साथ जुड़ना चाहते हैं तो सरकार ने कई टेलीकॉम कंपनी को इस कार्य के साथ जोड़ रखा है।

· इस कंपनी का काम होता है कि वह SMS के द्वारा इस योजना को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचा सके।

·जब यह SMS किसी के पास जाएगा तो नीचे टोल फ्री नंबर भी दिया जाएगा। अगर किसी को यह योजना अच्छे से समझ में नहीं आ रही है या फिर कोई समस्या आ रही है तो वह उस टोल फ्री नंबर पर सिर्फ मिस कॉल देगा और उन्हें वापस कॉल आएगी।

· आपके मिस कॉल देने के बाद ऑटोमेटिक कॉल आती है तो वहां आप उसी समय आई वी आर सुविधा से जुड़ जाते हैं।

· उसके बाद कैंडिडेट से उसकी जानकारी मांगी जाएगी। आवश्यकता अनुसार जो भी जानकारी उसे मांगी जाती है वह उस को निर्देश अनुसार भर के भेजेंगे और वह ऑटोमैटिक उस टेलीकॉम कंपनी के सिस्टम में सेव हो जाएगी।

· जैसे ही यह जानकारी सिस्टम में जुड़ जाती है उसके बाद जिसने भी इस योजना के लिए आवेदन किया है। उस आवेदनकर्ता को उसी के क्षेत्र में या उसके आसपास के कोई भी ट्रेनिंग सेंटर में भेजा जाएगा और उसको वहां से बाकी की जानकारी और बाकी का प्रोसेसर पता चलेगा।

इस योजना में अकेले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही नहीं जुड़े हैं। बल्कि इस योजना में उनका साथ दिया है सुरेश प्रभु, स्मृति ईरानी, अरुण जेटली, मनोहर परिकर जैसे बहुत बड़े-बड़े नाम उनके साथ इस योजना में जुड़े हैं। इस योजना का सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि भारत देश से बेरोजगारी को जड़ से खत्म किया जाए और रोजगार लाया जाए। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को काम मिल सके और वह अपने भविष्य को उज्जवल बना सके। क्योंकि उज्जवल भविष्य जिस देश में होगा वह देश हमेशा ऊंचाइयों को छू लेगा।

Gst Kya Hai Gst Information Hindi

जाने जवाब GST से जुड़े सवालों के बारे में।

भारतीय संसद के सेंट्रल हॉल में दिन शुक्रवार को रात 12 बजे हमारे पीएम मोदी जी और प्रणब मुखर्जी ने एक बटन दबाकर GST को पूरे भारत देश में लांच किया। अभी हमारे देश की बहुत सी ऐसी जनसंख्या हैं जिन्हें GST को लेकर अभी भी कुछ भर्म है। हम आपको GST से जुड़े सभी सवालों के जवाब देने जा रहे हैं। आइए जानते हैं GST के बारे में।

सबसे पहले जाने क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा?

देश में GST लागू होने से ही आइटम सस्ते हो जाएंगे रेवेन्यू और पोस्ट स्टाम्प सस्ती हो जाएंगी। इन पर सिर्फ पांच प्रतिशत टैक्स देना होगा।

लगभग 80% ऐसे आइटम्स हैं जो 18 प्रतिशत से भी कम के स्लैब में शामिल होंगे। इसमें आने वाले आइटम है वेल्डिंग वायर्स, ट्रांसफॉर्मर, स्टाटिंग कनवर्टर मशीन, ट्रांसफॉर्मर इंडस्ट्रियल इलेक्ट्रॉनिक्स, पैरामिलिट्री फोर्स और डिफेंस पुलिस द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले टू वे रेडियो आदि सामान सस्ते हो जाएंगे।

कैचअप, कटलरी, अचार और सौसज आदि भी सस्ते हो जाएंगे। इन आइटम को 12 प्रतिशत स्लेब ने रखा गया है।

यह चीजें हो जाएंगी महंगी

1 जुलाई से जब भी आप किसी AC रेस्टोरेंट में जाएंगे तो आप 18 प्रतिशत टैक्स देने के लिए तैयार हैं। पर यदि आप ऐसी रेस्टोरेंट में ना जाकर नॉन AC रेस्टोरेंट में जाते हैं तो आप छह प्रतिशत टैक्स की बचत करेंगे। दरअसल नॉन AC रेस्टुरेंट में पहले 12 प्रतिशत टैक्स होता था पर GST के बाद यह अब 6 प्रतिशत ही रह गया है।

बैंकिंग और टेलीकॉम जैसी सेवाएं महँगी हो जाएंगी। GST लागू होने के बाद मोबाइल बिल्स, ट्यूशंस फीस, रेडीमेड गारमेंट और फ्लैट पर टैक्स बढ़ जाएगा।

सैलून, ट्यूशन फीस और मोबाइल बिल पर पहले आपको सिर्फ 15% टैक्स ही देना पड़ता था, पर GST लागू होने के बाद अब आपको इन पर 18 प्रतिशत देना होगा।

यदि आप कोई भी चीज जो कि 1000 से अधिक की खरीद रहे हैं तो आपको उस पर 12 प्रतिशत टैक्स भरना पड़ेगा। अब तक हजार से ऊपर की चीज़ पर 6 प्रतिशत टैक्स ही लगता था।

GST लागू होने के बाद फ्लैट या दुकान खरीदने के लिए आपको 12 प्रतिशत टैक्स देना होगा। फिलहाल अभी यह टैक्स 6 प्रतिशत ही है।

किसके ऊपर कितना टैक्स लगेगा।

इन आइटम को है GST दायरे से बाहर रखा गया है। यह आइटम हैं फिश चिकन, अंडा, बटर मिल्क, दूध, शहद , दही, पिज़्ज़ा ब्रेड, फल और सब्जियां, प्रशाद, सिंदूर, बिंदी, नमक, फ्रूट जूस, नमकीन, छाता, सिलाई मशीन, अगरबत्ती, हैंडलूम और प्रिंटेड बुक जैसी है जो हम रोजमरा की जिंदगी में इस्तेमाल करते हैं, उन्हें GST से दूर रखा गया है।

इस पर लगेगा सिर्फ 5% का टैक्स देना होगा।

ब्रांडेड पनीर, पिज़्ज़ा ब्रेड, साबूदाना, केरोसिन, फ्रोजेन सब्जियां, चाय, मसाले, कॉफी, क्रीम, रिकॉर्डर, दवाई, लाइव बोर्ड, जैसे आइटम्स पर आपको सिर्फ पांच ही टैक्स देना होगा।

ऐसे जरूरी चीजों पर 12 प्रतिशत का टैक्स लगेगा।

बटर, पैक्ड ड्राई फ्रूट्स, जूस, नमकीन, भुजिया, एनिमल्स मीट, अगरबत्ती, कलर बुक्स, पिक्चर बुक्स , आइसक्रीम, सैंडविच, कैमरा, मॉनिटर, आदि पर 18 परिषद का टैक्स देना होग।

इन आइटम्स पर लगेगा 28 प्रतिशत का टैक्स।

गुड़, कोकोआ, चॉकलेट, पान, मसाला, पेंट, च्युइंगगम, शेविंग क्रीम, हेयर शैंपू, वॉलपेपर, सनस्क्रीन, टाइल्स, सिलाई मशीन, वॉटर हीटर, डिशवॉशर, सिलाई मशीन, वॉशिंग मशीन, एटीएम, वेक्यूम क्लीनर, मोटरसाइकल, ऑटोमोबाइल आदि चीजों को लग्जरी माना गया है और इन लग्जरी चीजों पर 28 प्रतिशत टैक्स लगाने का फैसला हुआ है।

जानिए GST के बाद कारोबार ऊपर क्या असर होगा।

जो कारोबारी साल में 20 लाख रुपए से कम कार्टन ओवर रखते हैं उन्हें छूट दी गई है। जबकि GST लागू होने से पहले यह छूट सिर्फ 10 लाख तक के टर्नओवर वाले कारोबारी के लिए ही थी।

7500000 से अधिक टावर वाले मअनुफैटूर्स, रेस्टुरेंट कंपोजीशन और ट्रेडर्स के तहत 2, 5 ,1 प्रतिशत की अदा कर सकते है।

अब से सभी कारोबारियों महीने में 3 रिटर्न भरना पड़ेगा। जिसमें से दो रिटर्न ऑटोमेटिक होंगे।

GST लागू होने के बाद 1 जुलाई से हर वह माल जो मार्केट में आएगा उस पर जीएसटी टैक्स लगेगा।

हमारी सरकार ने 1 जुलाई से पहले वाले सारे स्टॉक की बिक्री पर सभी कारोबारियों को कंपनसेशन दी है।

Atal Pension Yojana Hindi

क्यों जरूरत है अटल पेंशन योजना की ? ( Kyun jrurt hai atal pension yojna ki ? )

Atal Pension Yojanaबड़ी कंपनियों के अधिकारी, बड़े उद्योगपति, सरकारी नौकरी वाले व्यक्ति हर तबके के लोगों को अपने बुढ़ापे में आर्थिक सहायता चाहिए होती है। हर किसी को यही लगता है कि अगर उनकी जिंदगी में अचानक से कोई दुर्घटना हो गई, या अचानक से कोई बीमारी हो गई तो उनके पास पैसे कहां से आएंगे। इस समस्या को कम करने के लिए बहुत अलग अलग तरह की पेंशन योजनाएं चलाई गई हैं। पर हर इंसान इतना अमीर नहीं है कि वह अपनी जिंदगी भर के लिए पैसा इकट्ठा कर सकें, इसलिए आम नागरिक जो बहुत अमीर नहीं है उनके लिए अटल पेंशन योजना  ( Atal Pension Yojana ) बनाई गई है। यह इस योजना में आप आसानी से अपने बुढ़ापे के लिए आर्थिक बचत कर सकते हैं। ऐसा करने से आप बुढ़ापे में आर्थिक रूप से सुरक्षित रहेंगे।

कैसे करें अटल पेंशन योजना के लिए आवेदन (Kaise krein atal pension yojna k liye aavedan)

जो आवेदक अटल पेंशन योजना का लाभ उठाना चाहता है उसे अटल पेंशन योजना का फॉर्म भरना होगा। इस फॉर्म में बैंक का अकाउंट नंबर, उत्तराधिकारी की जानकारी, यदि आप शादीशुदा हैं तो आपके जीवनसाथी की जानकारी देनी होती है। इसके साथ साथ आवेदक को बैंक को ऑथोरिसशन लेटर पर साइन करके देना होता है। ताकि बैंक इस योजना के लिए फॉर्म आगे दे सकें।

जो आवेदक इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं उन्हें यह सुनिश्चित करना होता है कि वह कितनी पेंशन का प्लान करना चाहते हैं। उनके खाते में कम से कम उतने का बैलेंस मेंटेन रहे जितने की उनका पेंशन प्लान है।

ऐसा इसलिए है अगर आवेदक अपनी किश्तें नहीं भर पाए तो इस पेंशन योजना के नियम के अनुसार आवेदक को जुर्माना भी भरना पड़ सकता है। जिसका विवरण नीचे दिया गया है, कि किस तरह के पेंशन प्लान पर आपको कितना जुर्माना लग सकता है।( penalty for atal pension yojna)

– इस योजना के तहत यदि आप हर महीने 100 रुपए की किश्त भर रहे हैं तो आपको एक रुपए का जुर्माना लगेगा।

– यदि आप हर महीने 101 रुपए का भुगतान कर रहे हैं तो आपको दो रुपए का जुर्माना लगेगा।

– यदि आपकी हर महीने की किश्त 501 रूपए है तो आपको ₹5 का जुर्माना लगेगा।

– यदि आपकी हर महीने की किश्त 1001 रूपए है तो आपको ₹10 का जुर्माना लगेगा।

अटल पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए योग्यता।( atal pension yojna ka labh uthane ke liye yogyta)

हर वो भारतीय व्यक्ति जो 18 से 40 साल की उम्र के बीच का है इस योजना का लाभ उठा सकता है। उन्हें कम से कम 20 साल तक किसी योजना में निवेश करना होगा। निवेश करने के बाद वे पेंशन का लाभ उठा सकते हैं। जो व्यक्ति पहले से वैधानिक योजना में लाभ ले रहा है, वह इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते ।

स्वावलंबन योजना के धारक अपने आप ही अटल पेंशन योजना में सम्मिलित हो जाएंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्वावलंबन योजना को भारत में ज्यादा सफलता नहीं मिली थी आवेदक 60 साल की उम्र में ही पेंशन का लाभ ले सकते हैं। उससे पहले यह पेंशन नहीं ले सकते हैं।

व्यक्ति का कोई बैंक अकाउंट नहीं है तो उसे इस योजना का लाभ उठाने के लिए पहले अपना बैंक में खाता खुलवाना होगा। बैंक में खाता खुलवाने के लिए उन्हें आवश्यक दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी। बैंक में खाता खुलवाते समय व्यक्ति को ID प्रूफ , आधार कार्ड, राशन कार्ड जैसे डाक्यूमेंट्स जमा कराने होंगे। इसके अलावा उन्हें एक ऐसे व्यक्ति का सहारा लेना होगा जिसका पहले से ही उस बैंक में खाता हो। उसके बाद ही वे अटल पेंशन योजना का लाभ उठा सकते हैं।

अटल पेंशन योजना के जरूरी मुद्दे ( Atal pension yojna ke jruri mudde )

अटल पेंशन योजना के नियमों के अनुसार यदि आवेदक 6 महीने तक लगातार किश्त लगातार ना भरे, तो उनका खाता सील कर दिया जाएगा। अगर आवेदक ने पूरे साल भर अटल पेंशन योजना की किश्त नहीं भरी है, तो उसका खाता निष्क्रिय किया जा सकता है। अगर 2 साल तक लगातार आवेदक में एक भी किश्त नहीं भरी है, तो उसका खाता हमेशा के लिए बंद कर दिया जाएगा।

यदि आवेदनकर्ता एक बार अटल पेंशन योजना के साथ जुड़ गए हैं, तो वह कभी भी साधारण स्थिति में इस योजना से हट नहीं सकते। यदि इस योजना के दौरान ऐसी स्थिति उत्पन्न हो जाए, कि आवेदनकर्ता की मृत्यु हो जाए तो इस योजना के पैसे nominee को दिए जा सकते हैं।

अटल पेंशन योजना के अनुसार यदि आवेदन कर्ता की मृत्यु हो जाती है तो सारे पैसे का उत्तराधिकारी उसका जीवन साथी होगा पर यदि किसी कारणवश जीवनसाथी की भी मृत्यु हो जाती है तो सारे पैसे nominee को मिल सकते हैं।

Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana Pmgky Hindi

प्रधान मंत्री गरीब कल्याण योजना (pradhanmantri gareeb kalayan yojna (pmgky) hindi)

भारत सरकार आए दिन देश में गरीबों की हालत सुधारने के लिए कोई न कोई योजना बनाते ही रहती है। जैसा की हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद किए थे। इस से लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था। परंतु सबसे ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ा था काला धन वालों को, यह मुश्किल है कुछ ही दिन के लिए थी। परंतु जल्दी ही इसमें सुधार आ गया और काफी काला धन हमारे भारत में वापस आया। इसी तरह इस काले धन का इस्तेमाल करके सरकार कुछ गरीबों के लिए उनके सुधार के लिए कुछ कर सकती है। आज हम आपके पास प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लेकर आए हैं।

प्रधानमन्त्री ग़रीब कल्याण योजना क्या है (pradhanmantri gareeb kalayan yojna kya hai)

इस योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य गरीबी को जड़ से खत्म करना है। भारत को गरीबी से आजादी दिलाने के लिए गरीबों को इस योजना के चलते वर्क शाप दी जाती है और उन्हें बताया जाता है कि उनकी अंदर जो टैलेंट है। उससे वह कैसे कमाई कर सकते हैं। ताकि वह सक्षम हो कर अपने पैरों पर खड़े होकर अपने लिए धन एकत्रित कर सकें और अपनी जिंदगी को सुचारु रुप से चला सके।

प्रधानमन्त्री ग़रीब कल्याण योजना का उद्देश्य( pradhanmantri gareeb kalayan yojna ka udyeshya)

इस योजना के तहत गरीब लोगों को उनके गरीबी से छुटकारा दिलाने के लिए योजना शुरू की गई है। इस योजना के अंदर गरीबों को वर्क शॉप दी जाती है इस वर्क शॉप में जो भी गरीब जाता है ट्रेनिंग के लिए उसे उसके टैलेंट के हिसाब से ट्रेनिंग दी जाती है। ताकि वह कुछ सीख सके और उससे अपना व्यापार चालू कर सकें। ताकि उसकी गरीबी समाप्त हो सके और वह अपनी जिंदगी को सही रूप से चला सके। इस योजना की शुरुआत गुजरात से की गई थी। जो कि सफलता पूर्वक चल रहा है। इसके अलावा 22 जिलों में और इस योजना की शुरुआत हो चुकी है और परिणाम अच्छी आ रहे हैं। अब तक 500000 लोगों तक योजना पहुंचाई जा चुकी है।

प्रधानमन्त्री ग़रीब कल्याण योजना की विशेषताए (pradhanmantri gareeb kalayan yojna ki visheshataen)

यह योजना गरीबों के लिए शुरू की गई है ताकि उनका विकास हो सके। इसके चलते गरीबों को और आप लोगों को अलग तरह के वर्क शॉप दी जाती है। जो की पूरी तरह से मुफ्त में होती है। और उनको गरीबी से कैसे छुटकारा मिले और वह उनकी समस्याओं को सुलझा सके।

प्रधानमन्त्री ग़रीब कल्याण योजना के अंतर्गत कालाधन जमा करने हेतु आवेदन कैसे दें (pradhanmantri gareeb kalayan yojna ka avaden kaise kare)

सबसे पहले किसने इस फॉर्म को भरा है। उसके आगे आपको अपने सारे टेक्स की राशि और जब तक उसने टैक्स नहीं भरा है। उसकी राशि भारतीय रिजर्व बैंक या फिर किसी भी सरकारी बैंक में दिखानी होगी। जब यह सारी राशि बैंक जमा कर लेगी। तो उसे अगली प्रक्रिया शुरू करनी होगी। इन सभी राशियों को एक नोट में तब्दील कर दिया जाएगा और उसके बाद बैंक में दोबारा जमा कर दिया जाएगा। फिर उन सब पर टैक्स लगाया जाएगा और जिसने यह सारे पैसे जमा किए हैं। उसमे से जमा की गई राशि में से टैक्स काट लिए जाएंगे। आगे की प्रक्रिया में जमा करने वाले को जमा की गई राशि के लिए एक फॉर्म भरना पड़ेगा और सरकार द्वारा दोबारा से जांच पड़ताल होगी और उसके बाद उसके काले धन को सफेद धन में घोषित कर दिया।

दस्तावेज़ और इस योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया (pradhanmantri gareeb kalayan yojna dastavej)

इस योजना का लाभ हर नागरिक उठा सकता है और हर नागरिक उसके वर्क शॉप का हिस्सा भी बन सकता है। उसके लिए उसके पास आधार कार्ड, आइडेंटी कार्ड और साथ ही में स्थानीय निवास सर्टिफिकेट होना जरूरी है। इस योजना का लाभ पाने के लिए उम्मीदवार को ग्राम स्तर पर यानी की ग्राम पंचायत से संपर्क करना पड़ेगा और जो शहर के लोग हैं अगर वह इस योजना का फायदा उठाना चाहते हैं तो नगर पालिका के साथ संपर्क में रहना पड़ेगा।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के फायदे (pradhanmantri gareeb kalayan yojna yojna ke fayde)

इस योजना को शुरू इसलिए किया गया है ताकि भारत में से जड़ से गरीबी को खत्म किया जाए और गरीबों का विकास हो सके। इसके चलते केंद्र सरकार ने हर केंद्र में वर्क शॉप खोल रखी है। जिसमें गरीबी को खत्म करने के लिए चर्चा की जाती है और कैसे उनकी गरीबी खत्म हो इस पर उनको दिशा दिखाई जाती है। इस योजना के चलते 1.5 लाख लोगों को यह योजना का लाभ मिले ऐसा सरकार का लक्ष्य है। जो लोग गरीबी रेखा से नीचे हैं इस योजना के तहत उनको अनाज और रोजाना कि जिंदगी में आने वाले चीजों को कम रुपए में यानी की कम कीमत में दिया जाता है। ताकि कम पैसे में ही वह जिंदगी का गुजारा आसानी से कर सके।

प्रधानमन्त्री ग़रीब कल्याण योजना के लिए कुछ विशिस्ट बातें( pradhanmantri gareeb kalayan yojna ke liye jaruri baaten)

इस योजना के दो लक्ष्य है एक तो भारत से गरीबी को हटाना और कालेधन को भारत में वापस लाना। इस योजना के चलते काले धन जिम भी आदमियों के पास है वह सरकार को जमा करवा सकती है और उसे सफेद धन में तब्दील कर सकती है। इससे उसके सभी पैसों पर टैक्स लगा कर सरकार उसके अकाउंट में जमा कर देगी और टैक्स वाली राशि अपने पास रख कर उससे गरीब लोगों का भला कर सकेगी।

 

Anar Ke Fayde

अनार खाने के फायदे औऱ नुकसान जानकर हो जाएंगे हैरान aanar khaane ke fayde aur nuksan jaankar ho jayenge hairan

हम सब एक बहुत पुराने कहावत सुनते आए है एक अनार सो बीमार। इस कहावत का मतलब है कि एक अनार सौ बीमार को ठीक कर सकता है और यह कहावत झूठ नही है बल्कि एक हकीकत है। अनार स्वच्छ और खूबसूरत त्वचा के लिए सबसे बेहतरीन हैं। अगर रोजाना आप अनार खाते हैं तो आपका शरीफ चुस्त दुरुस्त रहेगा। क्योंकि इसके अंदर विटामिन ई, सी का स्रोत पाया जाता है।।इसके अलावा इसके अंदर आपको एंटी-ऑक्सिडेंट्स और एंटी-वायरल भी मिलेंगे। चलो हम आपको अनार खाने के फायदे भी बताएंगे और अनार खाने के नुकसान के बारे में भी बताएंगे।

Anar ke Fayde

Anar ke fayde
Anar ke fayde

चले पहले जानते हैं अनार खाने के फायदे ( Anar ke fayde )

अगर आप रोजाना अनार खाएंगे। तो बुढ़ापा आपको देर से आएगा। हम आपको बताते हैं यह कैसे होता है असल में अनार के अंदर Antioxidant होता है। जिसकी वजह से वह शरीर को सूरज की रोशनी ऑफ प्रदूषण से होने वाले रॅडिकल्स से बचाने में सहायता करता है। जिसकी वजह से आपकी त्वचा में धूल नहीं जमती है और बुढ़ापा से भी छुटकारा मिल जाता है।

अगर आप नियमित रुप से अनार का सेवन करते हैं ऐसे आपके सभी की हड्डियां मजबूत होती है। आपका ब्लड सर्कुलेशन सही रहेगा और इसे वजन भी कम होता है।

जिनको हार्ट की बीमारी है उन्हें अनार का सेवन रोजाना करना चाहिए। इसे खून का प्रवाह तो ठीक रहता ही है परंतु हार्टअटैक और हार्ट स्ट्रोक़ जैसे बिमारियों से भी छुटकारा मिल जाता है।

अगर आप रोजाना अनार का सेवन कर रहे हैं। उसके अंदर एंटीऑक्सीडेंट ऑफ स्टैंड भी होता है। जैसे कि मैंने पहले ही बताया है इसकी वजह से अगर आपके शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल है। वह पूरी शरीर में फैले उसे पहले ही अनार उसे रोक देता है। इसकी वजह से दिल की बीमारी से आपको छुटकारा मिल जाता है।

जब उम्र ज्यादा हो जाती है तो अल्जाइमर जैसी बीमारियां हमें घेर लेती है तो अनार का सेवन करने से इससे आपको छुटकारा मिलता है।

यह बात तो कोई बताने की नहीं है कि अनार का सेवन करने से खून की कमी की समस्या खत्म हो जाती है।

अगर आप रोजाना अनार का सेवन कर रहे हैं तो आपकी चेहरे पर ताजगी बनी रहेगी। जिसे आपका कि त्वचा मुलायम और चमकदार रहेगा।

गर्भवती महिलाओं को तो अनार का सेवन जरूर करना चाहिए। इससे उन का होने वाला शिशु स्वस्थ पैदा होता है।

अगर आपके दांतो से ब्लड आता है तो आप को अनार का सेवन जरूर करना चाहिए इससे दांत मजबूत होते हैं।

अगर आप चाहते हैं कि आपको प्रोटेस्ट कैंसर से छुटकारा मिले तो आपको अनार का सेवन जरूर करना चाहिए।

अनार के नुकसान – ( anar khaane ke nuksan )

अगर आपने अनार के दाने खाए हैं या उसका जूस पिया है तो उसकी तुरंत बाद पानी नहीं पीना चाहिए। वरना ऐसे आपको खांसी हो सकती है।

अगर आप किसी बीमारी से जूझ रहे हैं और आपकी कोई दवा चल रही है तो आपको अनार का सेवन डॉक्टर के सलाह के बाद ही लेना चाहिए।

कई लोग बहुत ही कंजूस होते हैं, वो अनार में काले दाने को भी खा लेते हैं। आपका जूस बना लेते हैं ऐसे लोगों को यह पता नहीं होता। की अनार के काले दाने उनकी पाचन तंत्र की शक्ति को कमजोर कर देते हैं।

कई लोग बहुत ज्यादा अनार का जूस बना लेते हैं जिसकी वजह से उन्हें वो स्टोर करके रख लेते है। या फिर बर्फ डाल का पीते हैं इसे उनको एलर्जी हो सकती है।

आज तो मार्केट में बहुत अनार के जूस डब्बे में मिलते हैं। जो काफी महीनों तक रखी रहते हैं।शायद आपको पता नहीं है इस तरह के अनार का जूस पीने से लीवर में समस्या सकती है। इसलिए जब भी आप अनार का जूस पिये तो ताजा पिए।

Oats Recipes Breakfast Hindi

ओट्स से बनी रेसेपी होती है बहूत हेल्दी (Oats se bani recipe hoti hai bahoot healthy)

हम आपको ओट्स द्वारा बनाई जाने वाली कुछ रेसिपी के बारे में बताएंगे। ओट्स रेसिपी को आप नाश्ते में एक व्यंजन की तरह भी खा सकते हैं। इस रेसिपी को बनाना हर कोई नहीं जानता है। इसके अंदर दो पौष्टिक चीजों का मिश्रण होता है एक है गेहूं और एक है चावल। जिसकी वजह से इसके अंदर आपको विटामिन प्रोटीन भरपूर मात्रा में मिलेगा।

ओट्स रेसिपी खाने में जितनी टेस्टी होती है। उतनी ही वह हैल्थी होती है। वह ओट्स खाने से कोलेस्ट्रॉल कम हो जाता है और इससे वजन भी कम होता है। ओट्स की बनी चीजें अगर आप खाएंगे तो आपको भूख भी कम लगेगी। और आपका पेट भी भर जाएगा। क्योंकि यह फाइबर मुक्त होता है। जिसकी वजह से आपको भूख जल्दी नहीं लगती है। अगर आप रोजाना ओट्स से बनी चीजों का सेवन करेंगे। तो 5% तक कोलेस्ट्रॉल आपका कम हो जाएगा। जिनको दिल की बीमारी की समस्या रहती है उनको भी और जरूर खाना चाहिए। जिन लोगों को शुगर की प्रॉब्लम है उन्हें भी और जरूर खाना चाहिए।

अगर आप 1 शब्दों में कहें तो यह सब बीमारियों का रामबाण इलाज भी है। इससे शरीर भी स्वस्थ रहता है। आज कल की जिंदगी बहुत दौड़ भाग वाली हो गई है किसी के पास इतना समय नहीं कि वह अपने लिए कोई टेस्टी या हेल्थी फ़ूड बनाएं। इसलिए लोग बाहर से खाना ज्यादा पसंद करते हैं इसलिए आज हम आपके लिए ओट्स की रेसिपी लेकर आए हैं। जो कि झटपट से बन जाती है और पूरी तरह से हल्दी भी होती है और स्वादिष्ट भी लगती है।

आज सबसे पहले हम बनाएंगे ओट्स उत्तपम (Aaj hum sabse pehle oats uttapam bnayenge)

ओट्स उत्तपम रेसिपी ( Oats uttapam recipe in hindi )

यह रेसिपी झटपट से 10 मिनट के अंदर बन जाएगी और यह रेसिपी हम चार लोगों के लिए बनाएंगे। जिसमें तैयारी का समय 15 मिनट लगेगा।

ओट्स उत्तपम रेसिपी सामग्री

1 कटोरी ओट्स½
कटोरी सूजी (रवा)2 tbsp
बारीक़ कटी प्याज1 tbsp
बारीक़ टमाटर1 tbsp
बारीक़ शिमला मिर्च1 tsp
बारीक़ कटी हरी मिर्च1 tsp
चना डाल1 tsp
उरद डाल1 tsp
राइ1 tsp
करी पत्ता¾ कप
छास 1/2 tsp
इनो1 tbsp
तेल1 tsp
बटर1 tsp
गरम मसाला 1 tsp
नमक स्वादानुसार

Oats uttapam recipe
Oats uttapam recipe

ओट्स उत्तपम कैसे बनाए ( Oats uttapam recipe kaise Banaye )

सबसे पहले ओट्स को कड़ाही में डालें और पूरा होने तक मध्यम आंच पर उसे भुने। जब वह ठंडा हो जाए तो उसे ग्राइंडर में डालकर पाउडर होने तक पीस ले। अब एक बाउल ले उसके अंदर पीसा हुआ पाउडर डालें और उसके अंदर सूजी मिलाएं। फिर उसके अंदर छास मिलाएं और करीबन इसे थोड़ी देर यानी कि 10 मिनट तक फूलने के लिए रख दें। अब एक पैन ले उसके अंदर थोड़ा ऑलिव ऑयल डालें। फिर राई डालें और करी पत्ता डालें। जब तक दोनों कडकड़ाने लगे। उनको उसमें रहने दे। उसके बाद उड़द की दाल और चना की दाल डाल दें और उसको भी जब तक भूरा ना हो जाए।।तब तक घुमाते रहें और जो ओट्स और सूजी का घोल तैयार किया था। उसके अंदर यह सब मसाले डाल दें। अब उसके बाद नमक मिर्च और जो ऊपर सामग्री में सब्जियां बताए हैं वह सब मिलाकर अच्छे से फेंट लें।

ध्यान रखें कि घोल ज्यादा गाढ़ा नहीं होना चाहिए। अगर आपका घोल ज्यादा गाढ़ा लग रहा है तो आप उसमे छाछ डाल सकते हैं या फिर पानी डालकर भी उसको थोड़ा पतला कर सकते हैं। सबसे अंत में इनो मिलाएं और तुरंत नॉन स्टिक तवा गैस पर चढ़ा दे और उसे हल्का गर्म कर ले। थोड़ा सा तेल डालकर सूखे कपड़े से उसे पोंछे। अब जो घोल आप ने तैयार किया है। वह इस तवे पर डालें और गोल-गोल घुमाते हुए उसे एक रोटी के आकार में फैला ले। अब दोनों तरफ से ब्राउन होने तक अच्छे से सेंक ले।

सबसे अंत में ऊपर से हल्का सा बटर डाल ले। चाट मसाला स्वाद अनुसार छिड़क ले। अगर आपके पास जो भी चटनी है उसके साथ खाना चाहते हैं तो खा सकते हैं। वरना इसके साथ नारियल की चटनी का स्वाद अलग ही रहता है। एक बात का ध्यान रखें कि अगर आपको मार्केट से प्लेन सफेद ओट्स नहीं मिल रहा है। तो आप मसाला वाला ओट्स से भी लाकर इसी तरह से उत्पम बना सकते हैं।

ओट्स उपमा रेसिपी ( Oats upma recipe in hindi )

उपमा रेसिपी हम आपके लिए लेकर आए हैं और उपमा यह भी बहुत स्वादिष्ट और सेहतमंद होती है। यह रेसिपी आज हम चार लोगों के लिए बनाएंगे। इसमें तैयारी के समय 10 मिनट लगेगा और बनाने में भी 10 मिनट का ही समय लगेगा।

ओट्स उपमा सामग्री

1 कप ओट्स 2 tbsp
सूजी (रवा)2 tbsp
बारीक़ कटी प्याज1 tbsp
बारीक़ टमाटर1 tbsp
बारीक़ शिमला मिर्च1 tbsp
बारीक़ कटी गाजर½
मटर2 tbsp
फूल गोभी1 tbsp
फ्रेंच बीन्स1 tsp
बारीक़ कटी हरी मिर्च1 tbsp
उरद डाल1 tsp
करी पत्ता1 tsp
राइ2 tsp
नीबू का रस2 tbsp
तेल नमक स्वादानुसार
सजाने के लिए बारीक़ हरा धनिया और किसा हुआ नारियल

ओट्स उपमा बनाने की विधि –( Oats upma recipe kaise Banaye )

सबसे पहले गैस ऑन करें। उसमें एक पेन रखे। उसके अंदर ओट्स और सूजी दोनों को डालकर अच्छे से भून ले। जब वह ठंडा हो जाए। उसके ठंडा होने तक उसे एक बाउल में डालकर रख दें। अब एक और कढ़ाई ले। उसके अंदर तेल डालकर उसे गर्म करें। अब उसके अंदर राई और करी पत्ता डालें। जब राई और कड़ी पत्ता अच्छे से गर्म हो जाए। उसके अंदर उड़द की दाल डालकर भूरा होने तक उसे भून लें। अब उसके अंदर प्याज डालें। उसे भी हल्का ब्राउन होने तक भून ले। फिर शिमला मिर्च डालें और उसे भी हल्का पकने दे। एक अलग से बाउल ले ले। उसके अंदर पानी गर्म करें। उस गर्म पानी में गाजर, मटर, गोभी, बींस इन सब को हल्का उबाल आने तक या हल्का नरम हो जाने तक उबाल ले। अभी सारी उबली सब्जियों को पानी से अलग कर दें और जो प्याज वाला आपने मिश्रण तैयार किया है। उसमें यह सारी उबली हुई सब्जियां डाल दे। अब इस मिश्रण को अच्छे से मिला लें। अब इसके अंदर नमक डालें और जो आपने सब्जियों का उबला हुआ पानी अलग से रखा था वह पानी तीन कप इस मिश्रण में डाल दें। और थोड़ा उबाल आने दे। अब इसके अंदर आपने जो ठंडा होने के लिए ओट्स और सूजी रखा था। वह भी इसमें डाल दें और बिना देर लगाए इन सारे मिश्रण को अच्छे से हिलाते रहे। जब तक इन सारे मिश्रण का पानी सूखना जाए। दो-तीन मिनट के लिए इसे धीमी आंच पर ढके रहने दें। अब इसे गार्निश करने के लिए ऊपर से हरा धनिया और कद्दूकस किया हुआ नारियल डालकर गर्म-गर्म सर्व करें।

अगर आपको थोड़ा इस को खट्टा मीठा खाना है तो आप इस में काजू किशमिश बादाम भी काट कर मिला सकते हैं। इसे इसका स्वाद थोड़ा और लाजवाब हो जाएगा।

ओट्स इडली रेसिपी ( Oats idli recipe in hindi )

आज हम आपको तीसरी रेसिपी बताने जा रहे हैं। आप ओट्स इडली यह बड़े से लेकर छोटे तक सब को बहुत पसंद आती है और बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी है। यह रेसिपी हम चार लोगों के लिए बना रहे हैं। इसमें तैयारी का समय 15 मिनट लगेगा और बनाने में मात्र 10 मिनट लगेगा।

ओट्स इडली सामग्री

1 कटोरी ओट्स
½ कटोरी सूजी
1 tsp बारीक़ कटी हरी मिर्च
1 tsp चना डाल
1 tsp उरद डाल
1 tsp राइ
1 tsp करी पत्ता(मीठी नीम)¾ कप मठा (दही का पानी)1/2 tsp इनो (या खाने वाला सोडा)1 tbsp तेल1 गाजर किसा हुआ1 tbsp हरा धनिया बारीक़ कटानमक स्वादानुसार

ओट्स इडली बनाने की विधि – ( Oats idli recipe kaise Banaye )

Oats idli recipeसबसे पहले गैस ऑन करें। उस पर एक कड़ाही रखें। थोड़ा सा ऑलिव ऑइल है और उसमें थोड़ा सा ओट्स डालें और हल्का ब्राउन होने तक भुने। फिर उसे एक बार में अलग से निकाल कर रख दें और उसे ठंडा होने के लिए रख दें। एक मिक्सर लें। उसमें ओट्स डालें और पाउडर जैसा पीस लें। अलग से बाउल ले। उसके अंदर ओट्स पाउडर और सूजी दोनों को अच्छे से मिलाएं और उसके अंदर छास मिलाएं। उसे तब तक अच्छे से मिलाएं। जब तक वह स्मूथ पेस्ट ना बन जाए और उसे थोड़ी देर फूलने के लिए छोड़ दें।

अब एक पहले उसमें तेल गर्म करें। उसके अंदर राई और करी पत्ता डालकर तड़काएं। उसके अंदर और उड़द दाल और चने की दाल डाल कर भूरा होने तक भूने। अब जितना भी आपने तड़के में सामान तड़का है उन सबको ओट्स वाले मसाले में मिलाकर अच्छे से फेंट लें। उस सभी घोल में मिर्च, धनिया, नमक और जो भी ऊपर सब्जियां बताई थी वह सब डालकर गाढ़ा घोल तैयार कर लें। अगर आपको यह घोल गाढ़ा लग रहा है। तो इसमें छास , पानी डालकर थोड़ा पतला कर ले। आखरी में इनो मिलाएं और अब इडली वाला सांचा ले ले। उस में हल्का-हल्का तेल लगा लें। ताकि घोल चिपके नहीं। उसके अंदर घोल डालें अब एक पतीले में थोड़ा पानी डालें। उसे थोड़ा गर्म करें। और उसके अंदर ही इडली वाला सांचा रखते हैं। और उसे ऊपर से अच्छी तरह से ढक दे। ताकि भाप बाहर ना आ सके। 10-15 मिनट के बाद चेक करें कि आप की इडली पक्की है कि नहीं। उसके लिए सबसे बेहतर तरीका यह है कि आप चाकू ले। उसमें थोड़ा सा तेल लगा लें और उस को उस पोस्ट इडली के घोल में डालकर देखे। अगर वह चिपक नहीं रहा है तो इसका मतलब है कि आप की इडली तैयार हो गई है। गैस बंद करें और ओट्स इडली को बाहर निकालें थोड़ा ठंडा होने दो। अभी इस इडली को आप नारियल की चटनी या सांभर जो आपको पसंद है उसके साथ खा सकते हैं।

ओट्स दही बड़े रेसिपी ( Oats dahi bade recipe in hindi )

अब अगली रेसिपी हम आपको बताने जा रहे हैं। ओट्स से दही बड़े बहुत ही चटपटी और स्वादिष्ट बनते हैं। ऐसा नहीं है कि यह चटपटे हैं तो यह पौष्टिक से भरपूर नहीं है, बल्कि इनमें उतना ही पौष्टिक रहेगा। जितना ऊपर बताई रेसिपी में है। यह रेसिपी हम चार लोगों के लिए बना रहे हैं। और तैयारी करने में इस में 10 मिनट लगेगा और बनाने में भी से 15 मिनट लगेगा।

ओट्स दही बड़े सामग्री

2 कप ओट्स
½ कप उरद दाल
½ कप मूंग दाल
1 tsp चना दाल
1 इंच टुकड़ा अदरक
1 tbsp हरी मिर्च चुटकी भर हिंग
1 tsp लाल मिर्च पाउडर
½ कप दही
1 tsp बारीक़ हरा धनिया
2 tbsp इमली की मीठी चटनी
1 tbsp धनिया मिर्च की चटनी
2 tbsp बारीक़ सेव
1 tbsp तेल
नमक स्वादानुसार

ओट्स दही बड़े बनाने की विधि – ( Oats dahi bade recipe kaise Banaye )

Oats dahi bade recipe
Oats dahi Vade recipe

ओट्स दही बड़ा बनाने के लिए आपको एक दिन पहले ही कुछ तैयारियां करनी पड़ेगी। इस के लिए मूंग और उड़द की दाल को रात भर भिगोए रहने दीजिए। फिर अगले दिन मिक्सर लीजिए उसके अंदर जो रात को दाल भिगोई है वह और अदरक और हरी मिर्च इन सबको मिलाकर एक महीन पेस्ट तैयार कर ले। उस पेस्ट के अंदर लाल मिर्च, नमक, हींग, धनिया यह सब मिलाकर अच्छा सा पेस्ट तैयार कर लें। इस मिश्रण को इतने अच्छे से पिसना है कि यह महीन पेस्ट बन जाए। इस मिश्रण को ज्यादा पतला नहीं रखना है वरना आप के दही बड़े अच्छे से नहीं बनेंगे। क्योंकि हम स्वस्थ और बिना तेल के दही बड़े बनाने वाले हैं। इसलिए बेहतर है कि आप इसको इडली वाले सांचे में बनाए। तो सबसे पहले इडली वाला सांचा निकालें। उस में हल्का-हल्का तेल लगा लें। ताकि यह घोल उसमें चिपके नहीं और एक पतीले में पानी गर्म करें। उसके अंदर यह इडली स्टैंड रखें। 10 से 15 मिनट के बाद इसे चेक करें। अगर इडली बन गई है गैस बंद करें इसे बाहर निकालें और थोड़ा ठंडा होने दें। उसके कुछ देर बाद जब आपकी यह बड़े ठंडे हो जाए तो ऐसे थोड़े हल्के गुनगुने पानी के अंदर 5 मिनट के लिए फूलने तक के लिए रख दें। अब इन्हें हाथों की हथेली के बीच में रखकर अच्छे से सारा पानी निचोड़ दें। अब एक प्लेट ले उसके अंदर सबसे पहले बड़े और दही डालें। फिर मीठी चटनी डालें, फिर हरी चटनी डालें, और फिर ऊपर से लाल मिर्च पाउडर डालें,चाट मसाला पाउडर डालें, गार्निश के लिए धनिया डालें। थोड़ी सी सेव डाल कर भी आप इसे सजा सकते हैं और आप अगर चाहे तो थोड़े से किशमिश काजू बादाम भी डाल कर इसे और अच्छा फ्लेवर दे सकते हैं। लीजिये आपके बड़े बनकर तैयार हैं।

तो आज हमने आपको चार ओट्स से बनी रेसिपी बताइ है। जिसे आप पूरे स्वाद के साथ खा सकते हैं । अगर आपको बाहर कहीं कुछ खाने का मन कर रहा है तो बेहतर है कि आप घर पर ही ओट्स की झटपट रेसिपी बनाएं और इसे खाएं। ताकि आपके सेहत पर भी कोई फर्क नहीं पड़े और आपके शरीर पर इसका अच्छा असर हो।

Tulsi Patte Gun Fayde Hindi

इन गुणों को जानकर आप भी लगाएंगे अपने घर में तुलसी का पौधा
( In gunon ko jaankar ap bhi khayenge apne ghar me tulsi ka podha)

tulsi ke fayde
tulsi ke fayde

आपको ज्यादातर हिंदू परिवारों में सब जगह पर तुलसी का पौधा भी दिखाई देगा और साथ ही में हिंदू धर्म में तुलसी की पूजा भी की जाती है। कार्तिक के महीने में तुलसी की पूजा बड़े जोर शोर से होती है और उनका विवाह भी किया जाता है कहते है कि तुलसी सुख और कल्याण का प्रतीक होती है जहां धर्म धर्म में इनका महत्व इतना होता है वहीं औषधि के रूप में भी इनका प्रयोग लोग अपनी जिंदगी में करते हैं अगर आप उनका प्रयोग करेंगे तो आपको कई बीमारियों का इलाज करवाने के लिए डॉक्टर के पास जाने की जरूरत नहीं है यह छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी बीमारियों से निजात दिलाने की क्षमता रखता है tulsi ke fayde

आयुर्वेद में भी तुलसी और उससे मिलने वाले गुणों का खास स्थान पाया गया है तुलसी को हिंदू धर्म के नहीं बल्कि हर धर्म के लोग संजीवनी बूटी के सामान मांगते हैं आयुर्वेदिक चिकित्सा में कहा गया है कि अगर आप तुलसी के पौधे का हर भाग कभी इस्तेमाल करेंगे तो भी आप को किसी न किसी बीमारी से जरुर फायदा होगा जहां तुलसी के पत्तों का अपना महत्व है वही तुलसी की जड़ शाखाएं और बीच इन सब का भी अपना एक अलग स्थान है आपने देखा होगा कि ज्यादातर लोग अपने घर में दो तरह के तुलसी लगाते हैं एक तुलसी की पत्ती कारण गहरा होता है और दूसरी तुलसी की पत्ती का रंग हल्का होता है जहां तुलसी शरीर की बीमारियों से निजात दिलाती है वही यह वातावरण को भी शुद्ध रखती हैं जिसे पर्यावरण संतुलित रहता है
आज हम आपको ऐसे ही तुलसी के कुछ घरेलू नुस्खे और फायदे के बारे में बताएंगे जिससे आपको पुराने रोगों से छुटकारा मिल जाएगा

tulsi ke fayde

1. टीबी के रोग को कर देती है छूमंतर
अगर आप तो ऐसे का इस्तेमाल करते हैं तो इससे आपको दमा और TV के रुप से छुटकारा मिल सकता है जो लोग रोजाना तुलसी के पत्ते का सेवन करते हैं उनको दमा और TV जैसी बीमारियां नहीं होती हैं तुलसी के पत्ते जैसे ही अंदर जाते हैं वे शरीर में फैलने वाले जीवाणुओं को रोक देते हैं जिससे कि आपको बीमारियां नहीं होती हैं अगर आपको दमा कफ और सर्दी से परेशानी हो रही है तो शहद अदरक और तुलसी को मिलाकर एक गाना बनाएं और उससे पिए इससे आपको इन सब बीमारी से छुटकारा मिलेगा

2. मलेरिया को रखे दूर

अगर आप मलेरिया और टाइफाइड की बीमारी से जूझ रहे हैं तो तुलसी के 11 पत्ते वाले और चार खड़ी काली मिर्च इन दोनों को का सेवन करें इससे आपको टाइफाइड और मलेरिया की बीमारी से छुटकारा मिलेगा साथ ही ने मच्छर के काटने से जो भी बीमारियां होती हैं अगर उसमे भी आप तुलसी के पत्ते का सेवन करेंगे तो आप को राहत मिलेगी

3. पैरासिटामोल से बेहतर है कि आप खाए तुलसी
अगर आप को बुखार आ गया है तो बेहतर है कि आप पेरासिटामोल की जगह तुलसी का इस्तेमाल करें 20 तुलसी दल के पत्ते लें और 10 कालीमिर्च ले इन द इन दोनों को पानी में अच्छे से उबालकर इसका कारण है आपका घर पुराना बुखार भी होगा तो वह भी गायब हो जाएगा

4. कुष्ठ रोग में तुलसी को देख कर भाग जाए
अगर आपको यहां पर किसी रिश्तेदार को कुष्ठरोग है तो चिंता करने की बात नहीं है बस तुलसी की जड़ को पीसने उसे शॉर्ट में अच्छे से मिला ले और रोजाना पानी के साथ पिए आपको बहुत जल्दी कुष्ठ रोग से फायदा मिलेगा इसके अलावा तुलसी के पत्तों का रस निकालकर भी अगर आप पानी के साथ मिलते हैं तो भी आपको कुष्ठ रोग में फायदा मिलेगा और आप विश्वास नहीं करेंगे कि आयुर्वेदिक वाले कहते हैं कि जिनके घर में तुलसी के पौधे या बगीचे होते हैं उनके घर के लोगों को कुछ रोग की संभावना ना के बराबर होती है

5. माइग्रेन और साइनस में मिलती है राहत

जिन लोगों को माइग्रेन और साइनस की प्रॉब्लम रहती है उन सबको तुलसी का काढ़ा जरूर पीना चाहिए। अगर आपको पुराना सर दर्द भी है तो भी आपको रोज सुबह शाम चौथाई चम्मच तुलसी के पत्तों का रस लेना चाहिए और उसमें एक चम्मच शुद्ध शहद मिलाकर 15 दिन तक पी है आपका पूरा सर दर्द की समस्या खत्म हो जाएगी

6. आंखों के रोगों के लिए रामबाण औषधि है तुलसी

अगर आपकी आंखें कमजोर है तो श्यामा तुलसी के पत्तों का दो दो बूंद का रस 14 दिन तक अपनी आंखों में रोजाना डालें अगर आप करो तो हिंदी भी है तो उसकी भी समस्या सही हो जाएगी अगर जिंदगी आंखों में पीलापन कि समस्या है तो उसे भी इस रस को अपनी आंखों में डालना चाहिए आंखों की लाली वापस आ जाएगी और अगर आप चाहते हैं कि आपकी आंखों की रोशनी हमेशा बरकरार रहे तो तुलसी के पत्तों का रस काजल की तरह रोजाना अपनी आंखों में लगाएं इसे आंखों की रोशनी बढ़ती है

7. सभी वात रोगों को दूर करने में है सहायक
अगर आप गठिया की समस्या से जूझ रहे हैं तो तुलसी की जड़ डंठल पत्ती फल और बीज इन सबको मिलाकर एक चूर्ण बना लें और उसे अगर आप गाठिया की समस्या से जूझ रहे हैं तो तोते की जड़ डेंटल पट्टी फलोदी क्यों सब को मिलाकर चूर्ण बनाले ऑल से गुड में मिलाकर रोजाना 12 बार ग्राम की गोलियां खाएं और साथ में गाय या बकरी का दूध कभी सेवन करें इससे आपको गाठिया की समस्या से छुटकारा मिलेगा

8. किडनी के रोगों में भी है लाभकारी
जिन लोगों को किडनी में पत्थर है उन लोगों को तुलसी की पत्तियों को हमेशा उबालकर उसका एड्रेस बनाना चाहिए और उस को शहद के साथ रोजाना 6 महीने तक पिएं आप की पथरी गलकर खत्म हो जाएगी

9. सांप के काटने पर लगाएं तुलसी का लेप
अगर किसी व्यक्ति को सांप ने काट लिया है तो उस व्यक्ति को तुरंत तुलसी का पत्ता खिलाना चाहिए इससे उसकी जान बजे जाती है और जिस जगह पर उसे सांप ने काटा है उस पर तुलसी की जड़ को मखनिया की में घिसकर उसका लेप उस जगह पर लगाना चाहिए इससे वह शहर को बाहर खींच लेता है अगर वह शहर को बाहर खींच रहा है तो उस लेप का रंग सफेद से काला हो जाएगा इसीलिए तुलसी को सांप के काटने पर एक रामबाण औषधि माना जाता है

10. दिल को मजबूत बनाती है तुलसी
जो लोग हृदय रोग से पीड़ित है उन्हें तुलसी के 10 पत्ते काली मिर्च 54 बताओ इन सबको पीसकर चूर्ण बनाना चाहिए और रोजाना एक गिलास पानी और शहद के साथ इसे लेना चाहिए इससे हृदय रोग की समस्या खत्म हो जाती है

11. यौन रोगों के इलाज में कारगर है

पुरुषों में शारीरिक कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफी फायदेमंद होता है. इसके अलावा यौन-दुर्बलता और नपुंसकता में भी इसके बीज का नियमित इस्तेमाल फायदेमंद रहता है.

12. अनियमित पीरियड्स की समस्या को करे दूर

अकसर महिलाओं को पीरियड्स में अनियमितता की शिकायत हो जाती है. ऐसे में तुलसी के बीज का इस्तेमाल करना फायदेमंद होता है. पीरियड्स की अनियमितता को दूर करने के लिए तुलसी के पत्तों का नियमित रूप से सेवन किया जा सकता है.

Green Tea Peene Ke Fayde Nuksan Hindi Me

ग्रीन टी के कुछ अद्धभुत फायदे (Green tea ke kuch adhbhut fayde)

आजकल की युवा पीढ़ी पतले होने के लिए ना जाने कौन कौन से नुस्खे अपनाती है। ऐसे में वह ग्रीन टी का बहुत इस्तेमाल करती है। जिसमें एंटीआक्सीडेंट असाइनमेंट के उपयोग से ग्रीन टी बनाया जाता है। इसका इस्तेमाल करके ग्रीन टी बनाई जाती है। आजकल ग्रीन टी पूरी दुनिया में बहुत लोकप्रिय होता जा रहा है। क्योंकि इससे स्वास्थ्य को बहुत सारे लाभ मिलते हैं और इससे लोगों की त्वचा मैं भी निखार आता है। आज हम आपको बताएंगे कि ग्रीन टी पीने के क्या फायदे होते हैं। ( green tea ke fayde )

Green Tea Ke Fayde

Green tea ke fayde
Green tea ke fayde

ग्रीन टी के फायदे ( green tea ke fayde )

1.वजन कम करने के लिए: आजकल की युवा पीढ़ी को जंक फूड बहुत पसंद है और उसके साथ साथ उन को तला हुआ भोजन भी बहुत अच्छा लगता है। जिसकी वजह से उनको बहुत सारी बीमारियां घेर लेती हैं जैसे कि मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, मोटापा, आदि। अगर आप इन सब बीमारियों से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आपको ग्रीन टी का सेवन जरूर करना चाहिए। इससे हमारे शरीर में पॉलीफेनॉल वसा वाले ऑक्सीकरण का स्तर जो बन जाता है उसे ग्रीन टी कैलोरी के रूप में तब्दील कर के बर्न कर देती है जिससे हमारा शरीर स्लिम हो जाता है।

2. मधुमेह के लिए:जिन लोगों को मधुमेह की शिकायत है उन्हें भी ग्रीन टी जरूर पीना चाहिए। क्योंकि ग्रीन टी शरीर में मौजूद एंटीआक्सीडेंट अल्फा और ग्लूकोज नाम के जो एंजाइम है। उनको रुकते हैं और ग्रीन टी पीने से वह उन ग्लूकोस को सहनशीलता को बेहतर बनाने में काफी मददगार साबित होती है।

3. कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए:ग्रीन टी शरीर में मौजूद एक्स्ट्रा कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक होता है। रोजाना ग्रीन टी का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल की समस्या से आपको निजात मिल सकता है।

4. दांतों के लिए:अगर आप रोजाना ग्रीन टी का सेवन करते हैं तो कैटिचिन बैक्टीरिया जो आपके शरीर के अंदर मौजूद है उनको ग्रीन टी मार देता है। जिसकी वजह से आपको संक्रमण होने से बचाव मिल जाता है। साथ ही में ग्रीन टी मुंह में जीवाणु और वायरस से आपके मुंह में से आने वाली बदबू से छुटकारा दिलाता है।

5. सुंदर त्वचा के लिए: ग्रीन टी के अंदर एंटीआक्सीडेंट को समृद्ध करने की ताकत है। जिसकी वजह से आपके त्वचा को सुंदरता मिलती है और झुर्रियां और बुढ़ापे जैसे समस्या से आपको जूझना नहीं पड़ता है।

6. तनाव और अवसाद से राहत:आपको विश्वास नहीं होगा परंतु यह बात सच है जो लोग ग्रीन टी पीते हैं वह लोग ज्यादातर खुशमिजाज रहते हैं। हमेशा तनाव मुक्त रहते हैं। और उन्हें अवसाद से भी राहत मिलता है।

7. कैंसर के लिए:जैसा कि मैंने आपको ऊपर भी बताया है कि ग्रीन टी के अंदर शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट मौजूद है। जिसकी वजह से सबसे बड़ी बीमारी यानी कि कैंसर की बीमारी से भी आपको राहत दिलाता है।

इसी वजह से ग्रीन टी को स्वस्थ के लिए सबसे लाभदायक बताया गया है।

Kiwi ke fayde

कीवी खाने के क्या फायदे हो सकते है ( Kiwi khane ke kya faide ho skte hai )

कीवी फ्रूट सबसे महंगा फल भी माना जाता है। और उसका बेहतरीन हरा रंग और उसके लाजवाब स्वाद के कारण लोग उसे खाना भी बहुत पसंद करते हैं।।आज हम आपको कीवी से होने वाले फायदे के बारे में बताएंगे और कुछ ऐसी चीजें भी बताएंगे जो आपके स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। ( Kiwi ke fayde )

Kiwi ke fayde

Kiwi ke fayde
Kiwi ke fayde

किवी फ्रूट के स्वास्थ्य लाभ ( kiwi fruit ke swasthya labh)

1. एंजाइम्स द्वारा पाचन क्रिया में सुधार

किवी फ्रूट के अंदर आपको एक्टिनिडेन, मिलेगा जिसे प्रोटीन घोलने वाला एंजाइम भी कहा जाता है। इसे भोजन आसानी से पच जाता है।

2. ब्लड प्रेशर नियंत्रण

किवी के अंदर पोटैशियम का उच्च स्तर पाया जाता है। जिसे इलेक्ट्रोलाइट्सको को ये संतुलित करता है। औए यह सोडियम के उलट काम करके ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है।

3. डीएनए को क्षति से बचाए

किवी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होता है जिसकी वजह से ये डीएनए कोशिका को खराब होने से बचाता है। जो लोग इसका सेवा। करते है उनको केंसर का भी खतरा कम होता है।

4. इम्यूनिटी बढ़ाए
कीवी के अंदर एंटीऑक्सीडेंट्स और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जिसकी वजह से यह इम्यून सिस्टम को बूस्ट कर देता है।

5. वज़न घटाने में मददगार
अगर आप अपने वजन को कम करना चाहते हैं तो आपको कीवी जरूर खाना चाहिए। क्योंकि इसे खाने से ताकत मिलती है और इससे शरीर में किसी भी भाग में चर्बी जमा नहीं जमती है।

6. पाचन क्रिया सुधारे
कीवी फल के अंदर पाचन क्रिया सुधारने की भी शक्ति होती है। क्योंकि इसके अंदर प्रचुर मात्रा में रेशे पाए जाते हैं। जिसकी वजह से कीवी खाने वाले व्यक्ति को कब्ज और आंत संबंधी कोई भी समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है।

7. टॉक्सिंस ख़त्म करे
अगर आपको टॉक्सिंस की समस्या है तो आपको कीवी जरूर खानी चाहिए क्योंकि यह फर्जी फाइबर आंत से टॉक्सिंस को बाहर निकाल देता है।

8. दिल की बीमारियों से बचाव
जिनके अंदर ब्लड क्लॉटिंग कम होता है उन्हें दिन में दो से तीन कीवी जरूर खानी चाहिए। इससे ब्लड क्लॉटिंग 18 प्रतिशत बढ़ जाता है। ब्लड क्लॉटिंग कम होने की वजह से आंख में जलन और ब्लीडिंग की समस्या बनी रहती है। इसीलिए कीवी का फल जरूर खाना चाहिए। क्योंकि इसके अंदर एंटीक प्लास्टिक के गुण मौजूद होते हैं। इसे कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होता है। और यह स्वास्थ्य के लिए तो पूरी तरह से लाभदायक है।

9. डायबेटिक मरीज़ के लिए उत्तम
जो मधुमेह के रोगी हैं उन लोगों को भी कीवी का फल जरूर खाना चाहिए क्योंकि इससे ब्लड शुगर बिल्कुल भी नहीं बढ़ता है और यह स्वास्थ्य के लिए सुरक्षित भी है।

10. आंखों की रोशनी बढ़ाए
अगर आपकी आंखों की रोशनी कमजोर है या फिर जो लोग बुजुर्ग है । उन लोगों को भी कीवी खानी चाहिए। क्योंकि इससे मैकुलर डीजेनेरेशन 30% कम हो जाता है और लूटीन और ज़ियाज़ैंथिन कीवी में मौजूद होने की वजह से जिन लोगों को आंखों का रोग होता है आंखों की रोशनी कम से कम होती है वह ठीक हो जाती है।

11 त्वचा की रक्षा
कीवी के अंदर त्वचा को सुरक्षित करने वाले एंटीआक्सीडेंट होते हैं। जिसकी वजह से त्वचा के बाहरी परत को रक्षा मिलती है और त्वचा संबंधी बीमारियां भी कम हो जाती है।

12. लाजवाब स्वाद
इस फल का स्वाद बहुत ही लाजवाब होता है। इसलिए इस फल को बड़े बूढ़े और बच्चे सब को खाना चाहिए। इससे पूरी तरह से न्यूट्रिशन शरीर को मिलता है जिसकी वजह से शरीर हमारा स्वास्थ्य और सुरक्षित रहता है।

 

किसान क्रेडिट कार्ड योजना की जानकारी

किसान क्रेडिट कार्ड योजना की जानकारी  ( Kisan Credit Card Scheme ki jankari  )

किसानों के लिए किसान क्रेडिट कार्ड योजना ( Kisan Credit Card Scheme ) शुरू हुई है जो कि उनके लिए बहुत बड़ी जरूरत बन सकती है। अगर यह क्रेडिट कार्ड उनके पास आ जाता है तो वह आसानी से कोई भी कर्जा ले सकते हैं। इसलिए यह योजना उनके लिए बहुत ही अच्छी है। इस क्रेडिट कार्ड की मदद से उन्हें खेती के लिए आसानी से खर्चा मिल जाएगा जिससे वह लोग समय से पहले ही किसान खेती के लिए उपकरण बीज और जो भी उस से संबंधित चीजे हैं वह खरीद सकते हैं।

Kisan Credit Card Scheme
Kisan Credit Card Scheme

क्या हैं किसान क्रेडिट कार्ड ? ( Kya hai kisan credit card )

यह किसान क्रेडिट कार्ड एक तरह से उनके लिए उनके लिए पहचान पत्र है। अगर यह क्रेडिट कार्ड उनके पास आ जाता है तो वह आसानी से खेती के लिए कर्जा ले सकते हैं। और अपनी कृषि से संबंधित गतिविधियों को आसानी सुचारु रुप से चला सकते हैं। इस क्रेडिट कार्ड के अंदर उनका नाम, जमीन की जानकारी, पता, सुधार की अवधि, वैलिडिटी पीरियड और किसान का पासपोर्ट साइज फोटो इकट्ठा किया जाएगा।

किसान क्रेडिट कार्ड का इतिहास ( Kisan Credit Card ka itihas )

किसान क्रेडिट कार्ड आज से नहीं बल्कि 1998-99 में वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने आरंभ किया था। उन्होंने कहा था कि किसान क्रेडिट कार्ड योजना के चलते बैंक किसानों को एक तरह से गोद लेगी जिससे किसान हमारे भारत देश को बेहतरीन बीज खाद और कीटनाशक खरीद के अच्छी फसल दे सके। इसलिए नाबार्ड प्रमुख बैंको के साथ विचार विमर्श किया गया और उसके बाद एक आदर्श प्रेस किसान क्रेडिट कार्ड योजना आरंभ की गई और यह स्कीम रिजर्व बैंक के साथ आरंभ की गई थी।

किसान क्रेडिट कार्ड के फायदे ( Kisan Credit Card ke fayde )

किसान क्रेडिट कार्ड का फायदा उठाने के लिए ज्यादा पढ़ाई लिखाई की जरूरत नहीं है और इसे कम पढ़े लिखे लोग भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इस योजना के चलते किसान को हर साल लोन लेने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसलिए यह योजना किसानों का समय और तनाव दोनों से बचाएगी। इसमें किसान को ब्याज क्रेडिट कार्ड पर मिल जाता है इसलिए किसान बिना किसी मुश्किल के अपने खेत के लिए बीज, खाद और भी अन्य जरूरत की चीजें खरीद कर एक अच्छी फसल तैयार कर सकता है। अगर कर लिया है तो उसको चुकाना भी पड़ेगा। परंतु इसके लिए किसान को चिंता करने की जरूरत नहीं है जब उन की फसल बिक जाए उसके बाद ही वह इस कर्ज को अदा कर सकते हैं।

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए योग्यता ( Kisan Credit Card ke liye yogyta )

किसान क्रेडिट कार्ड उन्हीं किसानों को मिलता है जिनके पास खुद के खेत होते हैं या फिर किसी के खेती में वह काम करते हैं या फिर उनके पास फसल उत्पादन के लिए बहुत सारे खेत होते हैं। इस लोन को एक किसान भी ले सकता है और समूह किसान भी ले सकता है। परंतु जरूरी बात यह है कि इस क्रेडिट कार्ड को हासिल करने के लिए किसान को बैंक के ऑपरेशन एरिया में सम्मिलित होना जरूरी है।

अब आपको बताते हैं कि किसान क्रेडिट कार्ड में किन-किन चीजों के लिए कर्ज ले सकता है। वह अपनी खेती के लिए, फसल की कटाई के लिए, अगर उसने पशु पालन किया है तो उनके लिए भी ले सकता है। कृषि संबंधित कई तरह की गतिविधियां होती हैं उनके लिए भी वह लोन ले सकता है। घर की आवश्यकताओं के लिए भी वह लोन ले सकता है। इन सब चीजों के लिए बैंक किसान क्रेडिट कार्ड पर लघु कर्ज देती है।

किसान क्रेडिट कार्ड तकनीकी सुविधा : ( kisan credit card takniki suvidha )

पर्याप्त सिंचाई की सुविधाओं,मिट्टी, जलवायु की उपयुक्तता,भण्डार की सुविधा,उत्पादन की उपयुक्ता, चित्राशी हमें कितनी मिलेगी यह सबसे महत्वपूर्ण सवाल है। कर्ज की राशि किस तरह से आपकी कृषि हो रही है, आप किस तरह की जमीन पर कृषि कर रहे हैं, इससे पहले आपको कितना कृषि उत्पादन मिला है। इन सब को देखते हुए मिलेगी।

किसान क्रेडिट कार्ड के अंतर्गत लोन सुविधा ( Kisan Credit Card e antargat loan ki suvidha )

पहले साल किसान के क्रेडिट कार्ड पर शॉर्ट-टर्म क्रेडिट कार्ड लिमिट फिक्स कर दी गई है। उसके अनुसार फसलों की खेती और उससे उत्पन्न होने वाली फसल पर यह सब निर्भर करता है। अगर यह सब बेहतरीन तरीके से रहा तो अगले साल हर एक साल के एक से पांच में लोन 10% बढ़ा दिया जाता है और जो लिमिट शॉर्ट टर्म के लिए दी गई थी उसे हर पांचवें साल पर 150% बढ़ा दिया जाता है।
इस तरह की बहुत सारी प्रक्रिया किसानों के क्रेडिट कार्ड में जोड़ी और घटाई जाती है। इसलिए आजकल किसानों के लिए यह क्रेडिट कार्ड बहुत ही जरूरी है क्योंकि प्राकृतिक आपदा की वजह से किसानों की फसलों का बहुत नुकसान होता है। जिसकी वजह से उनकी पूरी मेहनत पर पानी फिर जाता है। इसलिए यह क्रेडिट कार्ड उन की तकलीफ़ों को कम करने के लिए शुरु किया गया है।

गोवर्धन पूजा कथा विधि महत्व

गोवर्धन पूजा कथा विधि महत्व  ( Govardhan Puja Vidhi,Mahtav )

गोवर्धन पूजा दिवाली के अगले दिन ही होता है इसे अंकुट भी कहते हैं। किसान भाई बड़े भाव से इस पूजा को करते हैं। जलवायु और प्राकृतिक संसाधनों को धन्यवाद देते हैं।

गोवर्धन पूजा का महत्व( Govardhan Puja Ka Mahtav )

गोवर्धन पूजा का महत्व है कि हमारा जीवन प्रकृति की हर एक चीज पर ही निर्भर है जैसे कि पेड़,पौधे, पशु, पंछी,नदी, पर्वत उन पर ही निर्भर है। इसलिए हमें उनका ध्यान देना चाहिए। हमारे भारत देश में जलवायु संतुलन का बहुत बड़ा महत्व है। जलवायु संतुलन का विशेष कारण पर्वत मालाएं एवं नदियां हैं। प्राकृतिक धन-संपत्ति के प्रति हमारी भावना व्यक्त करता है। गोवर्धन के दिन गोवर्धन पर्वत की पूजा बड़े श्रद्धा भाव से की जाती है। यह गोवर्धन पूजा दिवाली के दूसरे दिन होती है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को मनाई जाती है। इस गोवर्धन पूजा में गाय माता की पूजा की जाती है क्योंकि गाय माता के ही दूध की छाछ, दही, मक्खन यहां तक कि गाय का गोबर, गाय का मुत्र भी हमारे जीवन का कल्याण करता है। गाय का गोबर, दूध, मुत्र सब पूजा के काम आता है। गाय हमारे हिंदू धर्म में गंगा नदी के बराबर मानी जाती है। इसे गोवर्धन पूजा के अन्नकुट भी कहते हैं। अंकुट में भंडारा होता है कई जगह तो यह एक पार्टी जैसा भी मनाया जाता है और यह महीनों तक चलता रहता है। यह पूजा बहुत ही अच्छी लगती है।

गोवर्धन पूजा की कथा ( Govardhan Puja Ki Katha )

गोवर्धन पूजा एक पौराणिक कथा है। कहते हैं कि भगवान कृष्ण का जन्म तो गोकुल में हुआ था। गोकुल में जन्म लेने के बाद ग्वाले के बीच में रहकर भगवान कृष्ण ने विशेष लीलाएं करी थी। कई लोगों का घमंड भी तोड़ा था। कईयों का उद्धार भी किया था। उन्हीं लोगों में एक इंद्रदेव भी है। गोकुल के लोग अच्छी फसल अच्छी जलवायु के लिए इंद्र देव का पूजा भी करते थे। गोकुल वासी हर वर्ष नाचते गाते हुए इंद्र देव की पूजा अर्चना करते थे। इस पूजा को जानने के लिए कृष्ण भगवान ने नंद बाबा से पूछा, यह पूजा क्यों आप करते हैं और किसके लिए करते हैं। तब नंदबाबा ने बाल कृष्ण को बताया कि यह पूजा हम इंद्र देव के स्वागत के लिए करते हैं। इस पर बाल कृष्ण ने नंद बाबा सहित अपने गांव वासियों को समझाया कि इंद्रदेव कि नहीं हमें गोवर्धन पर्वत का स्वागत पूजा-अर्चना बड़े भक्ति भाव से करना चाहिए। कृष्ण की बात मानकर सभी गांव वासियों और नंदबाबा भी बड़े हर्षित हो उठे। और उसके साथ गोवर्धन पर्वत की पूजा की। यह देखकर इंद्रदेव उनसे रूठ गए और गोकुल में आंधी तूफान शुरू कर दिया। सभी ग्रामवासी रोने लगे और उन्हें लगा कि हमारे जीवन खतरे में है। सभी ग्रामवासी पूरी तरह से घबरा गए। ऐसे समय पर बाल कृष्ण ने महान गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी सी उंगली पर उठा लिया और सभी गोकुलवासियों को उस पर्वत के नीचे जीवन दान दिया। फिर इंद्रदेव से युद्ध भी किया और उनका भी घमंड तोड़ दिया। उन्हें एहसास हुआ कि जिस जलवायु के लिए हम अपने आप को महान समझते थे। वह गलत है तभी से गोवर्धन की पर्वत की पूजा बड़े धूमधाम से मनाई जाती है। मंदिरों में भंडारा होता है। गोवर्धन को लोग गोबर से मंदिरों में पर्वत के रुप में मनाते हैं। उनकी पूजा करते हैं। इस दिन हम कृष्ण और गोवर्धन की पूजा करते हैं और गोवर्धन पर्वत की भी पूजा बड़े भाव से होती है।

गोवर्धन पूजा की विधी ( Govardhan Puja Ki Vidhi )

गोवर्धन की पूजा किसान करते हैं किसान खेतों से शुद्ध मिट्टी अथवा गाय का गोबर और 56 प्रकार का भोजन बनाकर उनकी पूजा करते हैं। गाय के गोबर से घर के मुख्य द्वार के आंगन में गोवर्धन बनाया जाता है फिर उन्हें नवेद चढ़ाकर गोवर्धन की पूजा की जाती है।

विधि ( vidhi )

सुबह जल्दी उठकर हम स्नान करके शुद्ध होकर साफ सुथरे कपड़े पहन कर अपनर घर में पकवान बनाते हैं। खेत में भी गोबर से भगवान गोवर्धन की प्रतिमा बनाई जाती है। साथ ही खेत में भी पूजा की जाती है। जितना संभव हो उतना बनाकर आप गोवर्धन पूजा में शामिल हो सकते हैं। गोवर्धन पर्वत की पूजा प्रकृति की पूजा है। हमें सब कुछ प्रकृति से मिलता है। इन्हें हमें हमेशा ही धन्यवाद करना चाहिए।

गोवर्धन पूजा पौराणिक पूजा है। यह पूजा दिवाली के अगले दिन हम करते हैं जिसकी जैसी श्रद्धा है उसी भाव से की जाती है। गोवर्धन पर्वत अभी भी मौजूद है। वहां पर अभी भी सब जाते हैं उनकी परिक्रमा करते हैं। उनका दर्शन करते हैं। पर्वत के आकार का बहुत बड़ा महत्व है। लोग अपनी कामना लेकर जाते हैं सभी की कामना गोवर्धन भगवान पूर्ण करते हैं। यही इनकी कथा है। इसी प्रकार इनका पूजन होता है और यह इनका महत्व गाय माता की पूजा पर निर्भर है। गोवर्धन पूजा बड़ी पूजा है हमें प्रकृति से मिलाती है।

लड़की को पटाने के तरीका

लड़की को पटाने के तरीका ( Ladki Patane Ke Tarike )

सबकी जिंदगी में कभी ना कभी ऐसा दिन जरूर आता है जब उसे किसी ऐसी लड़की से प्यार हो जाता है। जिसको वह पहली बार देखता है। वह लड़की के साथ बातचीत बढ़ाने की हर मुमकिन कोशिश करता है। उसका फोन नंबर मांग कर अपने रिलेशन को बढ़ाने की कोशिश करता है। परंतु फोन नंबर मांगने की हिम्मत उसके पास नहीं होती है। क्योंकि उसे ऐसा डर लगता है कि कहीं मेरे नंबर मांगने से वह मुझे थप्पड़ ना मार दे। मुझसे दूर ना चली जाए। ऐसे में कुछ लड़के पीछे हट जाते हैं। तो आज ऐसे ही कुछ टिप्स लेकर हम आपके पास आए हैं, जिसमें हम आपको बताएंगे कि लड़कियों को कैसे पटा सकते हैं(Ladki Patane Ke Tarike  ) या कैसे आप उनको इंप्रेस करें। ताकि वह आपकी भावनाओं की कदर करें और आपसे प्यार करने लगे, तो चलिए पढ़ते हैं उनकीे पसंद के बारे में

लड़की को पटाने के तरीका  ( Ladki Patane Ke Tarike )

1. भरोसेमंद बने  (bharosemand bane)

देखिए सबसे पहले अगर आप किसी के साथ रिश्ता शुरू करने वाले हैं। किसी लड़की को अपने प्यार का एहसास दिलाना चाहते हैं तो उसका भरोसा जीतना बहुत ही जरूरी है। क्योंकि उसी पर रिश्ता टीका रहता है। उसको भरोसा होगा तभी वह आपका अपना फोन नंबर देगी। आप उसे इस बात का भरोसा दिलाए कि आप उसका नंबर अपने दोस्तों को या फिर किसी और को नहीं देंगे।

2. उस से कोंटेक्ट में रहे ( usse contact me rahe )

लड़की से नंबर लेने के बाद उसे कहे कि वह उससे संपर्क में रहे और जब आप यह देखें कि उसका मूड बहुत ही अच्छा है। तो उसे अपने यह बात जरूर कहें कि क्या मैं आपको कभी कभार फोन कर सकता हूं और इसके अलावा कोई दूसरा शब्द इस्तेमाल ना करें।

3. ज्यादा उत्साह न दिखाएं  ( jyada utsah na dikhayen )

अगर लड़की ने आपको अपना नंबर दे दिया है, तो उसमें ज्यादा खुश होने की जरूरत नहीं है। और ना ही ज्यादा उतावलापन दिखाने की जरूरत है। क्योंकि लड़कियों को ऐसे लड़के बिल्कुल भी नहीं पसंद जो उसके आगे पीछे मंडराते रहे।

4. जो भी बताएं सच बताएं ( jo bhi btaye sach btaye )

अगर आप लड़की से फोन नंबर मांग रहे हैं। और किसी झूठ का सहारा ले रहे हैं। तो आप सबसे बड़ी गलती कर रहे हैं क्योंकि लड़की झूठ को फट से भांप लेती है इसलिए जो भी बताएं सब साफ-साफ और सच में बताए।

5. दोस्‍तों की मदद न लें अपने दम पर करें (doston ki madad n le apne dam par sab karen )

कुछ लड़के ऐसे होते हैं जो अपने दोस्त को हर बात पर आगे कर देते हैं। अपने दोस्त से कहते हैं कि वह लड़की का नंबर लेकर आए। जो कि लड़कियों को बिल्कुल भी नहीं पसंद हैं। उन्हें लगता है कि लड़के में खुद हिम्मत होनी चाहिए एक लड़की का नंबर मांगने की।

6. लड़की को थोड़ा समय दें  ( ladki ko thoda samay de )

अगर आप चाहते हैं कि आपका रिश्ता लंबा चले तो बेहतर है कि आप लड़की को थोड़ा समय दें, सिर्फ नंबर मांग लेने से ऐसा नहीं समझे कि वह आप से पट गई है बल्कि उस को समझें और अपने दिल की बात भी अच्छे से समझाइए।

अन्य पढ़े

 

सुकन्या समृद्धि योजना

बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ सुकन्या समृद्धि योजना ( Beti Padhao, Beti Bachao Sukanya Samriddhi Yojna )

जैसा कि हम सब जानते हैं कि आजकल के जमाने में लड़कियों की संख्या कम होती जा रही है। क्योंकि लड़कियों को गर्भ में ही मार दिया जाता है। बस इसी महिलाओं के स्वास्थ्य सुविधा के लिए सरकार द्वारा कई योजना बनाई जा रही है। लड़कियों को शिक्षित करने के लिए केंद्र सरकार द्वारा समृद्धि योजना की शुरुआत की गई है। और भी अन्य जरूरतों के लिए सरकार के द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रहे हैं। सुकन्या समृद्धि यह जो योजना है बेटियों की पढ़ाई और उनके शादी के खर्चे के लिए बनाई गई है। जिससे की बेटियों के मां बाप उनकी शादी का खर्चा आसानी से उठा सके।

यह योजना के अंतर्गत सभी बेटियों की पढ़ाई और उनकी शादी के लिए डाक विभाग के पास सुकन्या समृद्धि योजना का अकाउंट खुलवाया जा सकता है। डाक विभाग के किसी भी पोस्ट ऑफिस में आप यह अकाउंट खुलवा सकते हैं। सुविधा केंद्र में भी अकाउंट खुलवा सकते हैं। आप डॉक्यूमेंट जमा करने के बाद ही इस अकाउंट को खुलवा पाएंगे।

जानिए क्या है सुकन्या समृद्धि योजना  ( Janiye Kya Hai Sukanya Samriddhi Yojna )

आप अपनी बेटी का सुकन्या समृद्धि योजना जब भी खुलवाने जाएं। उसमें बेटी के नाम से साल में 1000 से लेकर 1,50000 रुपए जमा कर सकते हैं।

यह पैसा आपको 14 साल तक हर साल जमा करवाना होगा। यह खाता बेटी का जब 21 साल पूरे हो जाएंगे तभी आप इसे मैच्योर करवा सकते हैं। और यह पैसा आप 18 साल में भी निकलवा सकते हैं पर यह पैसा उस समय पूरा नहीं निकलेगा बल्कि आधा ही निकलेगा।

सुकन्या समृद्धि योजना के अनुसार यह सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के लिए बहुत लाभदायक योजना है। परंतु अगर आपके बेटी की शादी 18 वर्ष में हो जाती है तो यह योजना बंद हो जाएगी।

अगर आपको पेमेंट लेट हुई तो आपको 50 रूपय पैनल्टी भी भरनी पड़ सकती है। यह खाता पोस्ट ऑफिस में ही नहीं खुलता है बल्कि कई सरकारी व निजी बैंक में भी इस योजना के तहत खाता खुलवा सकते हैं।

अगर आपकी दो बेटियां हैं तो आप अपने दोनों बेटियों के लिए खाता खुलवा सकते हैं। अगर Judwaa है तो उसका प्रूफ आपको दिखाना पड़ेगा, तभी आपका तीसरा खाता खुल पाएगा।

बेटियों के मां बाप कभी भी खाते का ट्रांसफर करवा सकते हैं। मांन लीजिये बेटियों की सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 2015 में कोई भी व्यक्ति 1000 रुपए महीने में अकाउंट खुलवा सकता है। उसे 14 साल तक यानी 2028 तक आपको हर साल 12000 डालने होंगे और जो हिसाब होगा उसे हर साल 8.6 फिसदी ब्याज मिलता रहेगा। जब आपकी बेटी 21 साल की हो जाएगी तो उसे   रुपए मिलेंगे।

बेटी के शादी से मां बाप बहुत परेशान रहते हैं। इस योजना सुनने से उन्हें काफी राहत मिल जाएगी। कुछ मां-बाप की मजबूरी भी हो जाती है लिंग अनुपात करवाने की।  इस योजना से उन्हें काफी खुशी मिलती है। बेटियों की कमी हो गई थी। हमारी यह योजना हमें एक सहनशक्ति दे रही है। हमें बेटियों को बचाना है। बेटियों के बिना हम अधूरे हैं वो हमारी खुशी है। और खुशी की बात तो यह है कि आप 14 साल में केवल 1.68 लाख जमा करेंगे और आपको 1.68 रुपए + ब्याज के साथ मिलेगा।
बेटियों के लिए सरकार ने यह योजना बनाई है।

 

सुकन्या समृद्धि योजना योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज ( Sukanya Samriddhi Yojna Ke Liye Documents )

इस दस्तावेज में आपको

  • बच्चे के जन्म का प्रमाण पत्र
  • एड्रेस प्रूफ
  • ID प्रूफ
  • सुकन्या समृद्धि योजना का जो फॉर्म है वह ऑनलाइन आपके लिए उपलब्ध है। उस फॉर्म को डाउनलोड करें और उसे भर के ऑनलाइन सबमिट करें।

Diwali information in hindi

दीपावली-दीयों का पर्व ( Diwali information in Hindi )

भारत पर्व का देश माना जाता है। यहां पर हर होने वाले पर्व पर आपको खुशियां, सुख, शांति और एकता मिलेगी। यह हमारे सांस्कृतिक, परंपरा, सामर्थ्य, सामाजिकता और एकता की कड़ी को जोड़े रखता है। हर एक पर्व का अपना अलग ही महत्व है। परंतु हर एक पर्व हमारी जिंदगी में खुशियां भर देता है। हर एक पर्व के पीछे कोई ना कोई सामाजिक परंपरा या सांस्कृतिक या किसी भी तरह की कथाएं जरुर जुड़ी रहती है। जिससे हमें नया कुछ सीखने को मिलता है।

आज हम जगमगाते दीपों का त्योहार यानी की दीवाली की बात करने जा रहे हैं। जैसे ही यह पर्व आता है उससे पहले ही लोगों के मकान, दुकानें और घरों की सफाई चालू हो जाती है। इस पर्व के आने से लोगों के दिलों में और उनके जिंदगी में एक जोश आ जाता है। एक खुशी की लहर दौड़ने लगती है।

नामकरण- दीपावली दो शब्दों को मिलाकर बना है दीप + अवली। जिसका मतलब होता है दीपों की पंक्ति। इस पर्व पर हर घर में दिए जरूर जलाए जाते हैं। इसी वजह से इसका नाम दीपावली पड़ा।

दीवाली से सम्बद्ध कहानियां-

इस पर्व के साथ अलग-अलग धर्म की अलग-अलग कथाएं जुड़ी हुई है। पर इन सब कथाओं में से सबसे प्रमुख कथा, प्रभु राम की मानी जाती है। क्योंकि इस दिन श्री रामचंद्र जी अत्याचारी रावण को उसके पापी शरीर से मुक्ति दिला कर अयोध्या वापस लौटे थे, और जब वह अयोध्या वापस आए तो उनका राज्य पूरा हर्षित हो गया। क्योंकि वह सबके प्रिय राजा थे। उनके वापस आने की खुशी में लोगों ने दीपों से अपने घर को जगमग कर दिया। तब से यह त्यौहार इसी तरह से मनाया जाने लगा।

यह तो थे राम भक्त के लोगों की कहानी। परंतु कृष्ण भक्ति के लोग इसलिए इस त्योहार को मनाते हैं क्योंकि इसी दिन कृष्ण ने नरकासुर को मारा था और उसके चंगुल से कम से कम 16000 रमणियों को आजादी दिलवाई थी। क्योंकि यह शासक बहुत ही अत्याचारी था, इसलिए इसके मरने की खुशी में लोगों का मन मोर की तरह नाचने लगा और उन्होंने खुशी में अपने घर में दीपक जलाए।

इसके पीछे एक और कथा है। इसी दिन समुद्र मंथन भी हुआ था और समुद्र मंथन होने पर लक्ष्मी जी प्रकट हुई थी। उनके प्रकट होने पर देवताओं ने उनकी पूजा की थी।

वहीं कुछ भक्त यह भी मानते हैं कि इस दिन यानी कि धनतेरस के दिन भगवान विष्णु ने नरसिंह का रूप धरा था और अपने भक्त प्रहलाद को हिरणाकश्यप से छुटकारा दिलाया था।

वहीं सिख धर्म के लोगों की अलग मान्यता है। उनका कहना है कि इसी दिन उनके छठे गुरु हरगोविंद सिंह जी को जेल से रिहाई मिली थी। इसलिए सिख लोग भी इस पर्व को बहुत धूमधाम से मनाते हैं। इसके इलावा कुछ लोग यह भी मानते हैं महर्षि दयानंद को भी इसी दिन स्वर्ग प्राप्त हुआ था।

इस पर्व के साथ बहुत सारी कहानियां जुड़ी हुई है। जितनी भी कहानी आप सुनेंगे वह सब कम है परंतु प्रमुख कहानियां यही है।

पर्व का आयोजन- दीपावली का त्योहार जैसे ही आता है। उसके आगे पीछे त्योहारों की लड़ी लग जाती है। दीपावली से 2 दिन पहले त्रयोदशी को धनतेरस मनाते हैं। धनतेरस पर लोग नए बर्तन खरीदते हैं। चतुर्दशी को नरक चौदस मनाया जाता है। अमावस्या को दीपावली मनाई जाती है। दीपावली से अगले दिन लोग गोवर्धन पूजा के लिए जाते हैं। क्योंकि माना जाता है कि इस दिन कृष्ण जी ने गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली से उठाकर गोकुल धाम वासियों की इंद्र के प्रकोप से रक्षा की थी। उस के दूसरे दिन भैया दूज मनाया जाता है।

महत्त्व- इस त्यौहार को छोटे-बड़े, गरीब-अमीर हर तरह की जाती, हर तरह के लोग मनाते हैं। अगर आप बाजारों में जाएंगे तो पूरी बाजार दुल्हन की तरह सजी दिखाई देती है। रंग बिरंगे खिलौने, रंग बिरंगे फूल, पुष्पमालाएं, रंग बिरंगी मिठाईयां देखने को मिलते हैं। वही बालक इस पर्व को लेकर अति उत्साहित रहते हैं और उनका उत्साह पटाखों के जरिए हम देख सकते हैं। सबसे बेहतरीन दृश्य होता है दीवाली की रात का, इस दिन सभी घर ऐसे लगते हैं जैसे शादी वाले घर हैं।

इन सबके अलावा दीपावली व्यापारियों के लिए भी बहुत ही महत्वपूर्ण और शुभ दिन माना जाता है। इस दिन व्यापारी अपने पुराने बही खाता बंद करते हैं और नए तरीके से व्यापार आरंभ करते हैं। सभी धर्म और जाति के लोग इस पर्व को अति उत्साह से मनाते हैं। दिवाली पर सफाई होने के पीछे कारण यह भी है कि दिवाली से पहले वर्षा ऋतु होती है, जिसकी वजह से घर में दुर्गंध आ जाती है और सफाई हो जाने के बाद दिवाली वाले दिन पूरा घर सुगंधित हो उठता है।

दिवाली जैसे उत्साह वाले दिन दुख तब होता है, जब इस दिन लोग इस त्योहार को गलत तरीके से मनाते हैं। कहने का भाव है कि कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं, शराब पीते हैं जो कि बिल्कुल ही गलत आदत है। इस दिन हमें नास्तिक,अराष्ट्रीयता और नकरात्मक चीजों का त्याग कर देना चाहिए।

उपसंहार-

दिवाली भारत का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है। इसके महत्व को हमें गलत रूप में नहीं लेकर जाना चाहिए। इसके महत्व को हम समझे। जुआ खेलकर और शराब पीकर इस पर्व को ना मनाए। इस त्यौहार को श्रद्धा और आस्था के साथ मनाएं। त्योहारों की वजह से ही देश में एकता होती है। इसलिए महत्वता को समझने की कोशिश करें और इसके सभी नियमों का पालन करें। इस महान पर्व पर बुराई करने वालों का विरोध करें और खुद बुराइयों से बचे।

लाजवाब चिली चिकन बनाने का सबसे आसान तरीका

लाजवाब चिली चिकन बनाने का सबसे आसान तरीका। ( chilli chicken bnaane ka sabse aasan tarika)

हम सभी लोग घर में हमेशा कुछ ना कुछ अलग बनाने की कोशिश करते रहते हैं और कुछ तो ऐसी रेसपी होती हैं जिनको हम लोग घर पर बहुत कम ही बनाते हैं उसको हम लोग ज्यादातर बाजार में जाकर खाना पसंद करते हैं।

या फिर किसी होटल या रेस्टोरेंट में जाकर लेकिन आज हम आपको जिस रेसिपी के बारे में बताने जा रहे हैं वह रेसिपी आप कभी भी अपने घर में बहुत जल्द बना कर खा सकते हैं।

अगर कभी भी आपके घर पर मेहमान या फिर किसी भी तरह की पार्टी हो तब भी आप इस रेसिपी को बनाकर अपने मेहमानों का दिल खुश कर सकते हैं।

आज हम आपको चिली चिकन के बारे में बताने जा रहे हैं कि इस को हम किस तरह से बहुत जल्दी और आसानी से लाजवाब तथा स्वादिष्ट बना सकते हैं।

चिली चिकन जो कि एक नॉन वेज खाना है इसे लोग बहुत ज्यादा खाते हैं जो की रोटी, रुमाली रोटी,नान तथा चावल के साथ बहुत आराम से खा सकते है,कभी भी अगर आपके घर पर कोई मेहमान आ जाए, आप अगर सोच रहे हो कि क्या जल्द से जल्द बना सके तब चिली चिकन बना दें।

जिससे की आपके मेहमान भी खुश हो जाएंगे और आपकी एक अच्छी स्वादिष्ट रेसिपी भी बन जाएगी, चिली चिकन बनाने के लिए लगभग 20 मिनट का समय चाहिए।

अगर आपके पास सामग्री तैयार हो,तो हम आपको बता रहे हैं तीन चार सदस्यों के लिए चिली चिकन बनाने के लिए आप को कितनी कितनी मात्रा में क्या-क्या सामान चाहिए।

Chilli Chicken Recipe

chilli chicken recipe
chilli chicken recipe

Ingredients

ढाई सौ ग्राम बोनलेस चिकन।

4 टीस्पून कॉर्नफ्लोर।

5 हरी मिर्च बारीक कटी हुई।

4 बड़े चम्मच सोया सॉस।

दो बड़े चम्मच टमैटो सॉस।

4 प्याज बारीक कटा हुआ।

6 लहसुन की कलियां ।

एक छोटा चम्मच लाल मिर्च पाउडर।

दो शिमला मिर्च बारीक कटे हुए ।

एक बड़ा चम्मच बारीक कटा हुआ अदरक।

4 बड़े चम्मच तेल और नमक स्वादानुसार।

चिली चिकन बनाने विधि  ( chilli chicken bnaane ki vidhi )

सबसे पहले आप सारे चिकन को एक साथ इकट्ठा कर ले और उनको अच्छे से धो लें ध्यान रखें सारे चिकन के पीस बोनलेस होने चाहिए।

अब सभी चिकन के पीस को अच्छे से धो लीजिए उसके बाद आप उस पर लहसुन तथा अदरक का पेस्ट लगा दीजिए।

लहसुन और अदरक का पेस्ट अच्छे से सभी पीस पर लगा दें कोई भी सिरा उसका खाली ना रह जाए इस बात का ध्यान रखे।

उसके बाद उसको एक बर्तन के अंदर ढक कर रख दें थोड़ी देर बाद जब पेस्ट थोड़ा सा सूख जाए तो सभी चिकन के पीस को बाहर निकाल ले।

उसके बाद गैस जला ले उस पर एक पेन रखे उसके अंदर तेल डालें और तेल को थोड़ा ज्यादा गर्म होने के बाद उसके अंदर से सभी पीस तल ले और ध्यान रखें कोई भी पीस ज्यादा जलने ना पाए।

आप सभी टुकड़ों को फ्राई करके बाहर निकाल ले।

अब आप एक पैन और गैस जला के रखे उसके अंदर थोड़ा सा तेल डालें उसके अंदर बारीक कटे हुए प्याज को डालें और उसको थोड़ा हल्का ब्राउन होने तक भूनते रहें अब इसके अंदर कटी हुई बारीक शिमला मिर्ची डाल दें और उसको भी उसी के साथ हल्का ब्राउन होने तक पकने दे साथ में अब मिर्ची डाल दें और बाकी मसाले भी इसके अंदर डाल दें ताकि सब का मिश्रण अच्छे से हो जाए।

और सब को दो-चार मिनट तक अच्छी तरह पकने दे, जब मसालो की खुशबू आने लगे उसके बाद उसके अंदर सोया सॉस डाल दे और जो साथ में चिकन के पीस थे उसको भी उसके अंदर डाल दें ताकि सभी मसाले और सभी पीस एक दूसरे के साथ पक जाए और वह एक दूसरे के साथ मिक्स हो जाएं।

अब उसके अंदर 2 कप पानी डाल दें पानी डालने के बाद उसे 5 से 8 मिनट तक ढककर रख दे ताकि वह अच्छे से पक जाए। आपका चिली चिकन तैयार है अब आप इसे किसी भी रोटी,नान या रुमाली रोटी के साथ अपने मेहमानों को सर्व कर सकते हैं और खा सकते हैं ये बहुत ज्यादा लाजवाब और स्वादिष्ट होगा।

diwali sms

आप सभी को पता होगा इस साल दिवाली पर्व 19 अक्टूबर को पूरी इंडिया में बड़ी धूम-धाम से मनाया जाएगा। दिवाली हर साल आती है और इस फेस्टिवल को शायद ही कोई होगा जो नहीं मनाता होगा। हर साल दिवाली का इंतजार सभी भारतीयों को बड़ी बेसब्री से होता है। दिवाली के जैसे ही दिन नजदीक आते हैं। तबसे मिठाइयां खरीदना लोग शुरू कर देते हैं। और मिठाई बांटते है। दिवाली वाले दिन दिए जलाए जाते हैं। लक्ष्मी, विष्णु भगवान की पूजा की जाती है घर को अच्छे से सजाया जाता है। और हर जगह लड़ियाँ लगाई जाती है।
धूमधाम से लोग पटाखे फोड़ते है और भी बहुत से कारण है। जिसकी वजह से सभी को दिवाली फेस्टिवल अच्छा लगता है। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में दिवाली sms और शुभकामनाएं कैसे दूसरे को शायरी के रूप में दें। यह बताएंगे। ताकि आप अपने फ्रेंड और फैमिली को इसे सुनाके उनकी दिवाली और बढ़िया कर दो।

इस दिवाली जैसे शुभ पर्व को प्यार और शांति से मनाते हैं,
रुठे हुए को इस दिन हम अपने करीब लाते हैं, लग जाओ प्यार से सबके गले, इस दिन हम प्यार भरा दीप जलाते हैं।
दीपावली मुबारक हो आपको!

दिवाली आई पुरानी यादें लाई,
भूल गए थे जो फुलझड़ियों के साथ खेलने वाला बचपन,
क्या हुआ अगर वो आज पास नहीं है,
परंतु दिवाली के साथ उनकी यादें तो आयी
इसलिए आज खुशियों से ये आंखे नम हो आयी।
“हैप्पी दिवाली”

अँधेरा हुआ तो रात आ गई,
सुबह दिवाली के साथ आ गयी,
उठो और देखो एक मेसज आया है
मेसज के साथ दिवाली की शुभकामनाएं साथ आ गयी।
A Very-Very Prosperous Deepawali 2017

हर दम खुशियाँ रहे तुम्हारे आस पास, दामन में हो खुशियां ढेर सारी,
यही दुआ है हमारी और इसके साथ आपको  Happy Diwali

दिवाली का त्यौहार इको फ्रेंडलीे मनाना है,
सुरक्षित और अपनो के साथ मनाना है,
मोदी जी के स्वच्छ भारत अभियान को आगे लेकर जाना है,
दीवाली पर एक नया इतिहास बना कर दिखाना है।
Happy Deewali !

चेहरे पर हंसी रख कर दीये तुम जलाना,
जीवन में नई उलास और उमंग को लाना,
दुख सभी भूल कर,
सबको प्यार से अपनाना गले,
और यादगार दीवाली तुम मनाना, दीवाली 2017 की शुभकामनायें

दीपक की रोशनी सब जगह जगमगाए,
लगे हैं ऐसा राम संग सीता मैया आए,
हर घर, हर शहर अयोध्या जैसे सजाएं,
आओ प्यार से हम सब दिवाली मनाएं।

लक्ष्मी पधारेंगी तुम्हारे घर तुम्हारा नाम होगा, इतना काम तुम्हारा बढ़ेगा कि पैसा भरमार होगा,
सबके दिलों में करोगे तुम राज,
यही शुभकामनाएं है हमारी आज,
दीपवाली की ढेरों शुभकामनायें !

जगमगाती लड़ियों से जगमगाता आंगन हो, आतिशबाजियों की आवाज से यह आसमान रोशन हो,
तुम्हारे लिए ऐसे आए यह खुशियों की दिवाली, झूमने का मौसम हो पाली पाली।

झूम के आई है दिवाली देखो,
ढेर सारी खुशियां लाई है दिवाली देखो,
यहां वहां कहीं भी देखो,
दिवाली के जगमगाते दीप देखो ! Happy Deepawali 2017